अधिक देखे गए।

ईरान, रूस और चीन से युद्ध के लिए तैयार रहे ब्रिटेन : जनरल कार्टर एयरपोर्ट के बदले एयरपोर्ट, दमिश्क़ पर हमला हुआ तो तल अवीव की ख़ैर नहीं ! हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने ईरानी हैकर्स ने अमेरिकी अधिकारियों के ईमेल हैक किए ! हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । ईरान को झुकाने की हसरत अपनी क़ब्रों में ले जाना : आईआरजीसी ईरान के नाम पर सीरिया को हमलों का निशाना बनाने की आज्ञा नहीं देंगे : रूस हिज़्बुल्लाह - इस्राईल तनाव, लेबनान ने अवैध राष्ट्र सीमा पर सेना तैनात की । यमन का ऐलान, वारिस कहें तो हम ख़ाशुक़जी के शव लेने की प्रक्रिया शुरू करें ।
Monday - 2018 Dec 17

क़ुरआन-अहलेबैत अ.

क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब

पैग़म्बर स.अ. फ़रमाते हैं कि जिसने क़ुर्आन के केवल एक हर्फ़ की तिलावत की उसके आमालनामे में एक नेकी लिखी जाती है और हर नेकी का दस गुना सवाब मिलता है, फिर आपने फ़रमाया, मैं यह नहीं कहता कि अलिफ़ लाम मीम यह हर्फ़ है बल्कि अलिफ़ एक हर्फ़ है लाम दूसरा हर्फ़ है और मीम तीसरा हर्फ़ है

क़ुर्आन की निगाह में इंसान की अहमियत

अल्लाह ने इंसान को केवल इस लिए पैदा किया है कि वह दुनिया में केवल अपने अल्लाह की इबादत करे और उसके अहकाम की पाबंदी करे, उसकी ज़िम्मेदारी अल्लाह के अम्र की इताअत करना है। इरशाद होता है कि, और हमने इंसान को नहीं पैदा किया मगर केवल इसलिए कि वह मेरी इबादत करें

इमाम ज़माना अ.स. की ग़ैबत में उम्मत की ज़िम्मेदारियां

मैं, मुफ़ज़्ज़ल इब्ने उमर, अबू बसीर और अबान इब्ने तग़लिब इमाम सादिक़ अ.स. की ख़िदमत में हाज़िर हुए तो देखा आप ज़मीन में बैठे हुए बहुत ज़्यादा रो रहे हैं और फ़रमाते हैं कि मेरे सरदार तेरी ग़ैबत ने मेरी मुसीबत को अज़ीम कर दिया है, मेरी नींद को उड़ा दिया है और मेरी आंखों से आंसुओं का सैलाब जारी कर दिया है, मैंने हैरत से पूछा ऐ रसूल स.अ. के बेटे, अल्लाह आपको हर आफ़त से महफ़ूज़ रखे यह रोने का कौन सा अंदाज़ है और क्या अल्लाह न करे आप पर कोई ताज़ा मुसीबत नाज़िल हो गई... .......
Country:     City:
Fajr 4:20
Sunrise 6:20
Zohr 13:10
Sunset 19:50
Maghrib 20:30

ताज़ा समाचार

नोबेल विजेता की मांग, यमन युद्ध का हर्जाना दें सऊदी अरब और अमीरात । फ़िलिस्तीन का संकट लेबनान का संकट है , क़ुद्स का यहूदीकरण नहीं होने देंगे : मिशेल औन महत्त्वहीन हो चुका है खाड़ी सहयोग परिषद, पुनर्गठन एकमात्र उपाय : क़तर एयरपोर्ट के बदले एयरपोर्ट, दमिश्क़ पर हमला हुआ तो तल अवीव की ख़ैर नहीं ! तुर्की को SDF की कड़ी चेतावनी, कुर्द बलों को निशाना बनाया तो पलटवार के लिए रहे तैयार । दमिश्क़, राष्ट्रपति बश्शार असद ने दी 16500 लोगों को आम माफ़ी । यमन का ऐलान, वारिस कहें तो हम ख़ाशुक़जी के शव लेने की प्रक्रिया शुरू करें । प्योंगयांग और सिओल मिलकर करेंगे 2032 ओलंपिक की मेज़बानी ईरान अमेरिका के आगे नहीं झुकेगा, अन्य देशों को भी प्रतिबंधों के सामने डटने का हुनर सिखाएंगे । सऊदी अरब के पास तेल ना होता तो आले सऊद भूखे मर जाते : लिंडसे ग्राहम ईरानी हैकर्स ने अमेरिकी अधिकारियों के ईमेल हैक किए ! ईरान, रूस और चीन से युद्ध के लिए तैयार रहे ब्रिटेन : जनरल कार्टर हमास की ज़ायोनी अतिक्रमणकारियों को चेतावनी, हमारे देश से से निकल जाओ । पाकिस्तान में इतिहास का सबसे बड़ा निवेश करने वाला है सऊदी अरब नेतन्याहू की धमकी, अस्तित्व की जंग लड़ रहा इस्राईल अपनी रक्षा के लिए कुछ भी करेगा । वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति का आरोप, उनकी हत्या की योजना बना रहा है अमेरिका । सऊदी अरब सहयोगी , लेकिन मोहम्मद बिन सलमान की लगाम कसना ज़रूरी : अमेरिकन सीनेटर्स झूट की फ़ैक्ट्री, वॉइस ऑफ अमेरिका की उर्दू और पश्तो सर्विस पर पाकिस्तान ने लगाई पाबंदी ईरान के नाम पर सीरिया को हमलों का निशाना बनाने की आज्ञा नहीं देंगे : रूस अमेरिकी हथियार भंडार के साथ बू कमाल में सामूहिक क़ब्र से 900 शव बरामद । विख्यात यहूदी अभिनेत्री नताली पोर्टमैन ने की अमेरिका यमन युद्ध के नाम पर सऊदी अरब से वसूली को तैयार सऊदी अरब का युवराज मोहम्मद बिन सलमान है जमाल ख़ाशुक़जी का हत्यारा : निक्की हैली अमेरिका में पढ़ने वाले ईरानी अधिकारियों के बच्चों को निकालेगा वाशिंगटन दमिश्क़ का ऐलान,अपना उपग्रह लांच करने के लिए तैयार है सीरिया । ख़ाशुक़जी कांड से हमारा कोई संबंध नहीं , सेंचुरी डील पर ध्यान केंद्रित : जॉर्ड किश्नर

हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई

Thursday 5 May 2016 काबे के सेवक इस्लाम दुश्मनों से दोस्ती और मुसलमानों से दुश्मनी न करें : आयतुल्लाह ख़ामेनई
काबे के सेवकों को क़ुर्आन की तालीम पर अमल करते हुए "अशिद्दाओ अलल कुफ़्फ़ार" अर्थात काफिरों, { इस्लाम दुश्मनों } के लिए कठोर होना चाहिए मोमिनों और यमन तथा बहरैन के मुसलमानों के लिए नहीं ।

मराज-ए-तक़लीद से सम्बंधित समाचार

शिया-सुन्नी एकता इस्लाम दुश्मन शक्तियों के मुंह पर तमांचा : आयतुल्लाह नासिर मकारिम

जिन लोगों के दिल अंधे हो चुके हैं सिर्फ वही लोग पैग़मबरे इस्लाम स.अ. की विलादत के अवसर पर भी आज इस्लामी जगत में इत्तेहाद और एकता को बर्दाश्त नहीं कर सकते ।

समाचार

शिया उल्मा पर लाठीचार्ज की कड़ी निंदा, आरोपियों की गिरफ़्तारी की मांग।

हिन्दुस्तान के मशहूर शहर लखनऊ में शुक्रवार को जुमे की नमाज़ के बाद वक़्फ़ सम्पत्तियों की रक्षा के लिये आसेफ़ी मस्जिद (बड़ा इमामबाड़ा) से निकल कर कैबिनेट मंत्री आज़म ख़ां के घर का घेराव करने जा रहे शिया रोज़ेदारों पर पुलिस लाठी चार्ज की विभिन्न संस्थाओं नें निंदा करते हुए दोषी पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्यवाही की मांग की है।

7/28/2014 8:23:48 AM

हर दिन कुद्स दिवस का महत्व और अधिक स्पष्ट होता जा रहा है

लेबनान के अल मिनार टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार सय्यद हसन नसरुल्लाह नें जुमे के दिन दक्षिणी बैरूत में अन्तर्राष्ट्रीय क़ुद्स दिवस के अवसर पर निकाले जाने वाले जुलूस में भाग लेने के बाद लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय क़ुद्स दिवस मुसलमानों को असली मसले की याद दिलाता है ताकि क़ुद्स हमेशा याद रहे

7/28/2014 8:18:18 AM

दाइश का असली चेहरा दुनिया के सामने आ गया है।

इराक़ में सद्र गुट के प्रमुख नें दाइश को इस्लामी पवित्र स्थानों और क़ब्रों को को नष्ट करने वाले संगठन से परिभाषित किया है।

7/28/2014 8:14:34 AM

इराक़ी सेना ने अल-औजा शहर को आज़ाद करा लिया।

इराक़ी सेना ने कबीलों की मदद से तीन मोर्चों से दाइश के तकफ़ीरी आतंकवादियों पर हमला किया जिसके परिणाम स्वरूप अल-औजा शहर आज़ाद हो गया है।

7/28/2014 8:04:06 AM

  • रिकार्ड संख्या : 7443

घर-परिवार

महिलाओं के अधिकार, इस्लाम और आधुनिक सभ्यता की निगाह में

इस्लाम ने महिलाओं के अधिकारों को विस्तार से बयान किया है, संपत्ति का अधिकार, माल ख़र्च करने का अधिकार, अपनी दौलत के इस्तेमाल का अधिकार, अपने माल से व्यापार कर के लाभ कमाने का अधिकार, इस्लामी हदों को ध्यान में रखते हुए जॉब करने का अधिकार, शिक्षा हासिल करने का अधिकार, सामाजिक और राजनीतिक मैदान में क़दम रखने का अधिकार वग़ैरह, यह वह अधिकार हैं जो इस्लाम ने महिलाओं को दिए हैं।