अधिक देखे गए।

हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से क़ासिम सुलेमानी के आदेश पर सीरिया ने इस्राईल पर मिसाइल दाग़े : ज़ायोनी मीडिया शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब रूस ने संभाला वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति का सुरक्षा प्रभार । आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है अमेरिकी सेना ने माना, इराक युद्ध का एकमात्र विजेता है ईरान । इस्राईल के चप्पे चप्पे को मिसाइल हमलों का निशाना बनाने में सक्षम : दमिश्क़ इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है?
Thursday - 2019 Feb 21

क़ुरआन-अहलेबैत अ.

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून

हज़रत उम्मुल बनीन अ.स. की इस बात ने केवल हज़रत अमामा ही को प्रभावित नहीं किया बल्कि लैलै, तमीमिया और असमा बिन्ते उमैस को भी प्रभावित किया, और इमाम अली अ.स. की इन चारों बीवियों ने पूरे जीवन इमाम अली अ.स. की शहादत के बाद शादी नहीं की।

हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से

पैग़म्बर स.अ. की वफ़ात के बाद उनकी बेटी हज़रत ज़हरा स.अ. पर ढ़हाए जाने वाले बेशुमार और बेहिसाब ज़ुल्म और फिर उन्हीं ज़ुल्म की वजह से आपकी शहादत इस्लामी इतिहास की एक ऐसी हक़ीक़त है जिसका इंकार कर पाना ना मुमकिन है, इसलिए कि इतिहास गवाह है कि बहुत कोशिशें हुईं और बहुत मेहनत की गई, क़लम ख़रीदे गए और केवल यही नहीं बल्कि इंसाफ़ पसंद इतिहासकारों पर बहुत सारी हक़ीक़तें छिपाने के लिए दबाव भी बनाया गया, लेकिन ज़ुल्म, वह भी इस्मत के घराने की नूरानी ख़ातून पर छिप भी कैसे सकता था

एक बेटी ऐसी भी....

वह बेटी जिसका नाम पैग़म्बर स.अ. ने अल्लाह के हुक्म से फ़ातिमा ज़हरा (स.अ.) रखा था वह रिसालत के बाग़ का अकेला वह फूल है जिसकी मिसाल मिलना मुमकिन नहीं है, वह इसलिए कि अल्लाह ने मर्दों की हिदायत के लिए एक लाख चौबीस हज़ार नबियों को भेजा, नबुव्वत के बाद इमामत के सिलसिले को शुरू किया जो आज तक जारी है, लेकिन बेटियों और महिलाओं के लिए इसी बेटी यानी हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. को क़यामत तक की औरतों के लिए आइडियल क़रार दिया।
Country:     City:
Fajr 4:20
Sunrise 6:20
Zohr 13:10
Sunset 19:50
Maghrib 20:30

ताज़ा समाचार

ईरान पर आतंकी हमला, बिन सलमान ने दिया पाकिस्तान को 20 अरब डॉलर का इनाम : डी मेडी टेलीग्राफ ज़रूरत पड़ी तो अमेरिका को हमलों का निशाना बनाने को तैयार : रूस हिज़्बुल्लाह ने सेना और देशवासियों के साथ मिलकर लेबनान को सीरिया जैसी दुर्दशा से बचा लिया । पुतिन की नसीहत , विनाशकारी सियासत से बाज़ आए अमेरिका क़तर का आले सऊद पर हमला, हज को राजनैतिक हथियार के रूप में प्रयोग कर रहा है सऊदी अरब। सऊदी युवराज की भारत यात्रा के विरोध में हुए विशाल विरोध प्रदर्शन । वेनेज़ुएला संकट, अमेरिकी हस्तक्षेप की आशंका , सेना हाई अलर्ट । दमिश्क़ कुर्दों का समर्थन करने के लिए तैयार । इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी...

हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई

Thursday 5 May 2016 आयतुल्लाह ख़ामेनई का बड़ा बयान, इस्राईल घुटनों पर आया, जल्द ही तल अवीव में लहराएगा फ़िलिस्तीनी परचम ।
जो काम अरब सरकारें नहीं कर सकीं वह काम फिलिस्तीन ने कर दिखाया और इस्राईल को घुटने पर लेकर आ गये और इंशा अल्लाह एक दिन निर्णायक जीत भी हासिल कर लेंगे ।इस्राईल ने पहली जंग 22 दिन तो दूसरी जंग 8 दिन जारी रखी और हालिया जंग में सिर्फ 48 घंटे में ही संघर्ष विराम पर राज़ी हो गया इन सब का मतलब यह है कि अवैध राष्ट्र फ़िलिस्तीनी प्रतिरोध के सामने घुटनों पर आ गया है ।

मराज-ए-तक़लीद से सम्बंधित समाचार

आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे ।

सय्यद अली सीस्तानी ने स्पष्ट किया कि किडनैपिंग और लोगों की हत्या में शामिल हर अभियुक्त को दण्डित किया जाना चाहिए , हथियार सरकार की निगरानी में हों और किसी भी ग़ैर क़ानूनी हरकत का मुक़ाबला किया जाना बहुत ज़रूरी है।

समाचार

इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती

आयतुल्लाह जन्नती ने ईरान के इस्लामी इंक़ेलाब के खिलाफ दुश्मनों के षड्यंत्रों की ओर सनकेट करते हुए कहा किइस्लामी इंक़ेलाब के उद्देश्यों और उसके महत्त्व की सुरक्षा बहुत ज़रूरी है क्योंकि इंक़ेलाब इस्लामी के बहरी और आंतरिक दुश्मन इस्लामी क्रांति के खिलाफ नित नए षड्यंत्र कर रहे हैं ।

2/6/2019 1:38:48 PM

दमिश्क़ के खिलाफ नए ड्रामा खड़ा करने की साज़िश रच रहा है आतंकी संगठन व्हाइट हेल्मेट्स : रूस

इस आतंकी संगठन ने इदलिब के कई अस्पतालों में ऐसे उपकरण लगाए हैं जिन के माध्यम से ऐसी फ़िल्में तैयार की जाएँ जिन से ऐसा लगे कि सीरिया में एक बार फिर रसायनिक हमला हुआ है और इदलिब अस्पताल में भर्ती इन लोगों को दमिश्क़ ने रासायनिक हमलों का निशाना बनाया है ।

1/31/2019 2:53:41 PM

इस्राईल पार्लियामेंट चुनाव , हसन नसरुल्लाह के साथ सरदार क़ासिम सुलेमानी अहम् मुद्दा ।

ज़ायोनी जनरल ने सरदार क़ासिम और हिज़्बुल्लाह प्रमुख को संबोधित करते हुए कहा कि इस्राईल ईरान की संप्रभुता एवं सुरक्षा के लिए कोई खतरा नहीं है लेकिन हम इस्राईल के लिए भी किसी प्रकार के खतरे को बर्दाश्त नहीं करेंगे ।

1/31/2019 2:33:48 PM

शैख़ मुफ़ीद र.ह. की ज़िंदगी पर एक निगाह

एक दिन मैं आगे बढ़ा और कहा, ऐ शैख़, मैं आपसे मसला पूछना चाहता हूं, उसने कहा कि अपना मसला बताओ, तो शैख़ फ़रमाते हैं कि मैंने कहा आप इस शख़्स के बारे में क्या कहते हैं कि जो आदिल इमाम के ख़िलाफ़ जंग लड़े, उसने कहा वह काफ़िर है, फिर उसने अपनी ग़लती को सुधारते हुए कहा कि काफ़िर नहीं बल्कि फ़ासिक़ है, तो फिर मैंने कहा अमीरुल मोमेनीन अली इब्ने अबी तालिब अ.स. के बारे में आपका क्या ख़्याल है? तो उसने कहा वह आदिल इमाम हैं, शैख़ कहते हैं कि फिर मैंने कहा जंगे जमल, तल्हा और ज़ुबैर के बारे में क्या कहते हैं? तो उन्होंने कहा कि उन लोगों ने तौबा कर ली थी... मैंने तुरंत मौक़ा पा कर कहा कि जंगे जमल दिरायत है जबकि तौबा की ख़बर रिवायत है.......

1/30/2019 6:33:06 PM

  • रिकार्ड संख्या : 7681

घर-परिवार

कमियां तलाश करने वाले

क़ुर्आन की आयतों और मासूमीन अ.स. की हदीसों की रौशनी में लोगों की कमियों की तलाश में रहना ऐसी मनहूस सिफ़त है जो इंसान को दाग़दार और नापाक कर देती है और उसकी अख़लाक़ी शख़्सियत को गिरा देती है।