Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 181431
Date of publication : 2/5/2016 17:7
Hit : 276

अफ़ग़ानिस्तान के 18 प्रांतों में तालेबान के ख़िलाफ़ कार्यवाही शुरू।

अफ़ग़ान सेना की कार्यवाही को वायु सेना और तोपख़ानों का समर्थन प्राप्त है और ये कार्यवाहियां उन इलाक़े में केन्द्रित हैं जहां तालेबान के सदस्यों ने अपनी गतिविधियों में वृद्धि कर दी है और वे दोबारा इन इलाक़े पर कंट्रोल करने के कोशिश में हैं।


विलायत पोर्टलः अफ़ग़ानिस्तान के रक्षामंत्रालय ने तालेबान के ख़िलाफ़ इस देश के 18 प्रांत में सेना की कार्यवाही शुरू होने की ख़बर दी है। अफ़ग़ान सेना की कार्यवाही को वायु सेना और तोपख़ानों का समर्थन प्राप्त है और ये कार्यवाहियां उन इलाक़े में केन्द्रित हैं जहां तालेबान के सदस्यों ने अपनी गतिविधियों में वृद्धि कर दी है और वे दोबारा इन इलाक़े पर कंट्रोल करने के कोशिश में हैं। अफ़ग़ानिस्तान की सेना ने इससे पहले तालेबान के ख़िलाफ़ शफक़ नामक शुरू की थी जो अफ़ग़ान सेना और सरकारी अधिकारियों के अनुसार कामयाबी रही है। अफ़ग़ान सरकार की प्राथमिकता इस देश में शांति थी पर इस समय काबुल सरकार की प्राथमिका के बदल जाने के बाद इस देश के 18 प्रांतों में सेना की तालेबान के ख़िलाफ़ कार्यवाही का शुरू हो जाना ध्यान योग्य बिन्दु है। अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी ने हालिया दिनों में प्रतिरक्षामंत्रालय के अधिकारियों का आह्वान किया है कि वे हवा और ज़मीन से पूरी दृढ़ता के साथ तालेबान का दमन कर दें। तालेबान के ख़िलाफ़ 18 प्रांतों में सेना की कार्यवाही को एक प्रकार से सशस्त्र विरोधियों के मुकाबले में शक्ति परीक्षण समझा जा रहा है ख़ासकर इसलिए कि तालेबान ने अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति के आह्वान का मज़ाक उड़ाया और उनसे कहा है कि वह पूरी ताक़त के साथ तालेबान के मुकाबले में आ जाएं। तालेबान ने कहा है कि जब तक विदेशी सैनिक अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद रहेंगे वह शांति बातचीत में शामिल नहीं होगा और उसने कुछ दूसरी शर्तें भी लगा दी हैं। इस गुट ने ऐलान किया है कि वह सरकारी केन्द्रों के ख़िलाफ़ अपने हमलों में वृद्धि करेगा और इसी तरह वह अपने विस्फोटों तथा टार्गेट कीलिंग के हमलों में भी वृद्धि करेगा। अभी हाल ही में काबुल में होने वाले विस्फोट में लगभग 70 लोग मारे गए थे जो इस बात का सूचक है कि तालेबान अपने वादों को व्यवहारिक बनाने में आम नागरिकों पर भी दया नहीं करता। राजनीतिक टीकाकारों का मानना है कि अफ़ग़ानिस्तान के 18 प्रांतों में तालेबान के विरुद्ध सेना की कार्यवाही का एक लक्ष्य लोगों में यह आत्म विश्वास पैदा करना है कि देश की सेना तालेबान से मुकाबले में समक्ष है। अफ़ग़ानिस्तान के लगभग साढ़े तीन लाख सैनिक, जो अब हेकाप्टर से भी लैस हैं, यह दर्शाने की कोशिश में हैं कि तालेबान उनकी शक्ति के बारे में भ्रांति का शिकार है और इस देश के सैनिक शक्ति के उस स्तर पर पहुंच चुके हैं कि वे हर तरह की सशस्त्र लड़ाई को दबा दें। अफ़ग़ान लोगों का मानना है कि तालेबान जंग तेज़ करके जनता की समस्याओं में वृद्धि कर रहा है और इस देश में विदेशी सैनिकों की उपस्थिति को जारी रहने का अवसर उपलब्ध करता है। इसी वजह से अफ़ग़ानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करज़ई और वर्तमान राष्ट्रपति अशरफ़ गनी ने तालेबान से कहा है कि वह विदेशियों का खिलौना न बने और वह अफ़ग़ान बच्चों के भविष्य को दृष्टि में रखकर शांति प्रक्रिया से जुड़ जाए।
.......................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हश्दुश शअबी का आरोप , आईएसआईएस को इराकी बलों की गोपनीय जानकारी पहुंचाता था अमेरिका ईरान के पयाम सैटेलाइट ने इस्राईल और अमेरिका को नई चिंता में डाला सीरिया की स्थिरता और सुरक्षा, इराक की सुरक्षा का हिस्सा : बग़दाद आले सऊद की नई करतूत , सऊदी अरब में खुले नाइट कलब और कैसीनो । अमेरिका ने सीरिया से भाग कर ईरान, रूस और बश्शार असद को शक्तिशाली किया । ज़ुबान के इस्तेमाल के फ़ायदे और नुक़सान । सीरिया के विभाजन की साज़िश नाकाम, अमेरिका ने कुर्दों को दिया धोखा । सीरिया में अमेरिका का स्थान लेंगी मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात की सेना । बैतुल मुक़द्दस से उठने वाली अज़ान की आवाज़ पर लगेगी पाबंदी । दमिश्क़ की ओर पलट रहे हैं अरब देश, इस्राईल हारा हुआ जुआरी : ज़ायोनी टीवी शहीद बाक़िर अल निम्र, वह शेर मर्द जिसका नाम सुनकर आज भी लरज़ जाते हैं आले सऊद बश्शार असद की हत्या ज़ायोनी चीफ ऑफ स्टाफ की पहली प्राथमिकता ? यमन के सक़तरी द्वीप पर संयुक्त अरब अमीरात की नज़र क़तर के पूर्व नेता का सवाल, सऊदी अरब में कोई बुद्धिमान है जो सोच विचार कर सके ? अंसारुल्लाह का आरोप , यमन के लिए दूषित भोजन खरीद रहा है डब्ल्यू.एच.पी