हिंदुस्तान में सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि का दफ़तर
دوشنبه - 2019 مارس 25
हिंदुस्तान में सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि का दफ़तर
Languages
Delicious facebook RSS ارسال به دوستان نسخه چاپی  ذخیره خروجی XML خروجی متنی خروجی PDF
کد خبر : 181431
تاریخ انتشار : 2/5/2016 17:7
تعداد بازدید : 23

अफ़ग़ानिस्तान के 18 प्रांतों में तालेबान के ख़िलाफ़ कार्यवाही शुरू।

अफ़ग़ान सेना की कार्यवाही को वायु सेना और तोपख़ानों का समर्थन प्राप्त है और ये कार्यवाहियां उन इलाक़े में केन्द्रित हैं जहां तालेबान के सदस्यों ने अपनी गतिविधियों में वृद्धि कर दी है और वे दोबारा इन इलाक़े पर कंट्रोल करने के कोशिश में हैं।


विलायत पोर्टलः अफ़ग़ानिस्तान के रक्षामंत्रालय ने तालेबान के ख़िलाफ़ इस देश के 18 प्रांत में सेना की कार्यवाही शुरू होने की ख़बर दी है। अफ़ग़ान सेना की कार्यवाही को वायु सेना और तोपख़ानों का समर्थन प्राप्त है और ये कार्यवाहियां उन इलाक़े में केन्द्रित हैं जहां तालेबान के सदस्यों ने अपनी गतिविधियों में वृद्धि कर दी है और वे दोबारा इन इलाक़े पर कंट्रोल करने के कोशिश में हैं। अफ़ग़ानिस्तान की सेना ने इससे पहले तालेबान के ख़िलाफ़ शफक़ नामक शुरू की थी जो अफ़ग़ान सेना और सरकारी अधिकारियों के अनुसार कामयाबी रही है। अफ़ग़ान सरकार की प्राथमिकता इस देश में शांति थी पर इस समय काबुल सरकार की प्राथमिका के बदल जाने के बाद इस देश के 18 प्रांतों में सेना की तालेबान के ख़िलाफ़ कार्यवाही का शुरू हो जाना ध्यान योग्य बिन्दु है। अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी ने हालिया दिनों में प्रतिरक्षामंत्रालय के अधिकारियों का आह्वान किया है कि वे हवा और ज़मीन से पूरी दृढ़ता के साथ तालेबान का दमन कर दें। तालेबान के ख़िलाफ़ 18 प्रांतों में सेना की कार्यवाही को एक प्रकार से सशस्त्र विरोधियों के मुकाबले में शक्ति परीक्षण समझा जा रहा है ख़ासकर इसलिए कि तालेबान ने अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति के आह्वान का मज़ाक उड़ाया और उनसे कहा है कि वह पूरी ताक़त के साथ तालेबान के मुकाबले में आ जाएं। तालेबान ने कहा है कि जब तक विदेशी सैनिक अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद रहेंगे वह शांति बातचीत में शामिल नहीं होगा और उसने कुछ दूसरी शर्तें भी लगा दी हैं। इस गुट ने ऐलान किया है कि वह सरकारी केन्द्रों के ख़िलाफ़ अपने हमलों में वृद्धि करेगा और इसी तरह वह अपने विस्फोटों तथा टार्गेट कीलिंग के हमलों में भी वृद्धि करेगा। अभी हाल ही में काबुल में होने वाले विस्फोट में लगभग 70 लोग मारे गए थे जो इस बात का सूचक है कि तालेबान अपने वादों को व्यवहारिक बनाने में आम नागरिकों पर भी दया नहीं करता। राजनीतिक टीकाकारों का मानना है कि अफ़ग़ानिस्तान के 18 प्रांतों में तालेबान के विरुद्ध सेना की कार्यवाही का एक लक्ष्य लोगों में यह आत्म विश्वास पैदा करना है कि देश की सेना तालेबान से मुकाबले में समक्ष है। अफ़ग़ानिस्तान के लगभग साढ़े तीन लाख सैनिक, जो अब हेकाप्टर से भी लैस हैं, यह दर्शाने की कोशिश में हैं कि तालेबान उनकी शक्ति के बारे में भ्रांति का शिकार है और इस देश के सैनिक शक्ति के उस स्तर पर पहुंच चुके हैं कि वे हर तरह की सशस्त्र लड़ाई को दबा दें। अफ़ग़ान लोगों का मानना है कि तालेबान जंग तेज़ करके जनता की समस्याओं में वृद्धि कर रहा है और इस देश में विदेशी सैनिकों की उपस्थिति को जारी रहने का अवसर उपलब्ध करता है। इसी वजह से अफ़ग़ानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करज़ई और वर्तमान राष्ट्रपति अशरफ़ गनी ने तालेबान से कहा है कि वह विदेशियों का खिलौना न बने और वह अफ़ग़ान बच्चों के भविष्य को दृष्टि में रखकर शांति प्रक्रिया से जुड़ जाए।
.......................
तेहरान रेडियो


نظر شما



نمایش غیر عمومی
تصویر امنیتی :