Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 182737
Date of publication : 6/6/2016 16:5
Hit : 290

मौलाना कल्बे जवाद ने सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामनेई का अपमान करने वाले न्यूज़पेपर को भेजा क़ानूनी नोटिस।

भारत के वरिष्ठ शिया धर्मगुरू मौलाना कल्बे जवाद नक़वी ने ईरान की इस्लामी रिवाल्यूशन के सुप्रीम लीडर आयतुल्लहिल उज़्मा सय्यद अली ख़ामनेई का अपमान करने वाले समाचार पत्र को क़ानूनी नोटिस भेजा है।


विलायत पोर्टलः भारत के वरिष्ठ शिया धर्मगुरू मौलाना कल्बे जवाद नक़वी ने ईरान की इस्लामी रिवाल्यूशन के सुप्रीम लीडर आयतुल्लहिल उज़्मा सय्यद अली ख़ामनेई का अपमान करने वाले समाचार पत्र को क़ानूनी नोटिस भेजा है। मौलाना कल्बे जवाद ने भारत के एक हिंदी समाचारपत्र को भेजे क़ानूनी नोटिस में कहा है कि अख़बार की वेबसाईट ने मुसलमानों ख़ासकर शिया समुदाय की धार्मिक भावनाओं को गंभीर चोट पुहचांई है। मौलाना द्वारा भेजी गई नोटिस में कहा गया है कि न्याज़पेपर ने बिना किसी जांच के हमारे वरिष्ठ धार्मिक नेता को तानाशाहों की सूची में शामिल करके उनका अपमान किया है और एक ख़ास समुदाय की आस्था और धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का काम किया है। मौलाना कल्बे जवाद नक़वी ने कहा कि इस्लामी रिपब्लिक ईरान में सर्वोच्य धार्मिक नेता का चयन ईरान की जनता वोट डालकर करती है, जिसको स्पष्ट बहुमत से चुना जाता है। उन्होंने कहा कि ईरान के वर्तमान सर्वोच्य धार्मिक नेता बिना किसी शक्ति और उत्पीड़न के जनता की मर्ज़ी और समर्थन से देश के विकास और ईरान की समृद्धि में योगदान दे रहे हैं। इमामे जुमा लखनऊ ने कहा है कि आयतुल्लाहिल उज़्मा सय्यद अली ख़ामनेई एक वैश्विक स्तर के वरिष्ठ धर्मगुरू हैं, जिनका पूरी दुनिया में अनुकरण अर्थात तक़लीद की जाती है और उन्हें वलीए फक़ीह माना जाता है, इसलिए उनका अपमान पूरी दुनिया के शियों का अपमान करने जैसा है। उल्लेखनीय है कि समाचारपत्र की वेबसाईट ने लगातार विरोध ई-मेल और पत्र वार्ता के बाद अपनी वेबसाईट से आपत्तिजनक वाक्य हटा दिया था, मगर यह नोटिस इसलिए भेजा गया है कि बिना किसी जांच के और पत्रकारिता दायित्वों से अनदेखी करते हुए ऐसी ख़बरों को क्यों प्रकाशित किया गया जिससे धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचती हो और शांति भगं होने का ख़तरा हो। ज्ञात रहे कि अभीतक इस पूरे मामले पर समाचारपत्र की वेबसाईट ने माफ़ी नहीं मांगी है।
...............
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची