Tuesday - 2018 Oct 16
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 182756
Date of publication : 12/6/2016 17:48
Hit : 335

बहरैन में धर्मगुरूओं पर लगी पाबन्दी।

बहरैन के आले ख़लीफ़ा शासन ने अपने देश में धर्मगुरूओं की गतिविधियों पर पाबन्दी लगा दी है।

विलायत पोर्टलः बहरैन के आले ख़लीफ़ा शासन ने अपने देश में धर्मगुरूओं की गतिविधियों पर पाबन्दी लगा दी है। बहरैन के शासक हमद बिन ईसा आले ख़लीफ़ा ने एक फरमान जारी करके बहरैन में धर्मगुरूओं की गतिविधियों पर पाबंदी लगाते हुए अपने देश के तमाम राजनीतिक दलों के लिए नए नियम निर्धारित किए हैं। बहरैन के आले ख़लीफ़ा शासक ने एक आदेश जारी करके इस देश के सभी राजनैतिक दलों को निर्देश दिया है कि वे अपनी पार्टियों की गतिविधियों से धर्मगुरूओं और धार्मिक केंद्रों को दूर रखें। बहरैन के शासक के ताज़ा फ़रमान के अंतर्गत बहरैनी धर्मगुरू अब मिम्बरों से अपने भाषणों के दौरान राजनीतिक मुद्दों पर बातें नहीं कर सकेंगे और धार्मिक केन्द्रों के अधिकारियों को भी राजनीतिक दलों से संपर्क रखने की इजाज़त नहीं होगी। उल्लेखनीय है कि बहरैन के शासक द्वारा इस ताज़ा फरमान के बाद आले ख़लीफ़ा शासन के सुरक्षा बलों ने जुमें की नमाज़ के बीच दिए जाने वाले भाषणों और उपदेशों में राजनीतिक मुद्दों को उठाने के इल्ज़ाम में अब तक बहुत से धर्मगुरूओं को गिरफ़्तार किया जा चुका है। ज्ञात रहे कि बहरैन में फ़रवरी 2011 से वहां की जनता के शांतिपूर्ण आंदोलन जारी है। बहरैनी जनता इस देश में राजनैतिक सुधार और लोकतंत्र की स्थापना चाहती है लेकिन आले ख़लीफ़ा शासन, गिरफ़्तारी, दमनात्मक कार्यवाहियों, यहां तक कि नागरिकों की नागरिकता निरस्त करके इस देश की जनता को डराए हुए है।
۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :