Thursday - 2018 August 16
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 182778
Date of publication : 17/6/2016 17:24
Hit : 153

सऊदी अरब को क्लस्टर बम बेचे जाने को अमरीकी कांग्रेस ने दी मंज़ूरी।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विरोध जताए जाने के बावजूद अमेरीकी संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा ने सऊदी अरब को प्रतिबंधित क्लस्टर बम बेचे जाने पर लगी रोक ख़त्म करने को क़बूल कर लिया है।

विलायत पोर्टलः अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विरोध जताए जाने के बावजूद अमेरीकी संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा ने सऊदी अरब को प्रतिबंधित क्लस्टर बम बेचे जाने पर लगी रोक ख़त्म करने को क़बूल कर लिया है। अमेरीकी प्रतिनिधि सभा का फ़ैसला ऐसे समय किया गया जब सऊदी अरब के डिप्टी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने अपने अमेरीका दौरे के दौरान अमेरीकी सांसदों से मुलाक़ातें की हैं। सऊदी अरब को क्लस्टर बम बेचे जाने पर लगी रोक हटाने का बिल सिर्फ़ बारह वोटों के अंतर से पास किया गया। बिल के पक्ष में प्रतिनिधि सभा के 216 सदस्यों ने वोट दिए जबकि इसके विरोध में 204 सांसदों के वोट पड़े। अमेरीका अब तक अरबों डालर के क्लस्टर बम और दूसरे हथियार सऊदी अरब को बेच चुका है। एमनेस्टी इंटरनैशनल के अनुसार सऊदी अरब और उसके घटकों ने यमन युद्ध में बड़े पैमाने पर अमेरीका निर्मित क्लस्टर बमों का इस्तेमाल किया है। संस्था का कहना है कि उसके पास ऐसे सबूत मौजूद हैं जिनसे साबित होता है कि सऊदी गठबंधन ने यमन के शहरों अलइमारह, सिनहान, उमरान और बंदर अलहीमा पर अमेरीका निर्मित क्लस्टर बम बरसाए हैं। क्लस्टर बम जिन्हें गुच्छा बम भी कहा जाता है दर्जनों या सैकड़ों छोटे बमों पर आधारित बम होता है जो फटने के बाद फ़ुटबाल ग्राउंड जितनी दूरी में बिखर कर तबाही मचाते हैं। सन 2007 में एक अंतर्राष्ट्रीय समझौते के अंतर्गत क्लस्टर बमों के इस्तामाल पर रोक लगा दी गई थी लेकिन अमेरीका ने इस समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए थे।
......................................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :