Friday - 2018 Oct 19
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 182791
Date of publication : 21/6/2016 1:5
Hit : 249

शैख़ ईसा क़ासिम का अनादर किया गया तो बहरैन में शुरू होगा रक्तरंजित इंतेफ़ाज़ाः जनरल सुलैमानी

ईरान के इस्लामी रिवाल्यूशन रक्षक बल की क़ुद्स ब्रिगेड के कमांडर जनरल क़ासिम सुलैमानी ने अपने बयान में ज़ोर देकर कहा है कि शैख़ ईसा क़ासिम का अनादर ऐसी रेड लाइन है जिसे पार करने की स्थिति में बहरैन और पूरे इलाक़े में आग लग जाएगी और लोगों के पास सशस्त्र संघर्ष के अलावा कोई रास्ता नहीं बचेगा।

विलायत पोर्टलः ईरान के इस्लामी रिवाल्यूशन रक्षक बल की क़ुद्स ब्रिगेड के कमांडर ने सोमवार को एक बयान जारी करके कहा कि बहरैन की मुसलमान व अत्याचार ग्रस्त जनता काफ़ी समय से आले ख़लीफ़ा शासन के अत्याचारों, अनादर और हिंसक, अमानवीय व असहनीय कार्यवाहियों का सामना कर रही है। उन्होंने कहा है कि बहरैन की धैर्यवान जनता, भारी दबाव और आले ख़लीफ़ा के भेदभावपूर्ण रवैये के बावजूद शांतिपूर्ण ढंग से अपने अधिकारों की बहाली की लगातार कोशिशें कर रही है और दबाव में वृद्धि से उसे इस रास्ते से नहीं हटाया जा सकता। जनरल क़ासिम सुलैमानी ने अपने बयान में कहा है कि आले ख़लीफ़ा शासन का दुस्साहस इतना बढ़ गया है कि वह लोगों की प्रतिष्ठा की अनदेखी करके और संयुक्त राष्ट्र संघ, अमेरीका और पश्चिमी देशों के अर्थपूर्ण चुप्पी से फ़ायदा उठाते हुए हर दिन अपने अपराधों का दायरा बढ़ाता चला जा रहा है। बयान में कहा गया है कि अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के मौन की छाया में शैख़ अली सलमान और दूसरे राजनैतिक और मज़हबी नेताओं की ग़ैर क़ानूनी गिरफ़्तारी ने आले ख़लीफ़ा शासन को इतना दुस्साहसी बना दिया है कि वह बहरैन के शिया मुसलमानों के वरिष्ठ नेता शैख़ ईसा क़ासिम का अपमान करने पर उतर आया है। ईरान के इस्लामी रिवाल्यूशन रक्षक बल की क़ुद्स ब्रिगेड के कमांडर ने अपने बयान में ज़ोर देकर कहा है कि शैख़ ईसा क़ासिम का अनादर ऐसी रेड लाइन है जिसे पार करने की स्थिति में बहरैन और पूरे इलाक़े में आग लग जाएगी और लोगों के पास सशस्त्र संघर्ष के अलावा कोई रास्ता नहीं बचेगा। जनरल क़ासिम सुलैमानी ने अपने बयान के आख़िर में कहा है कि आले ख़लीफ़ा के समर्थकों को जान लेना चाहिए कि शैख़ ईसा क़ासिम के अनादर और बहरैन के लोगों पर हद से ज़्यादा दबाव के जारी रहने का नतीजा एक रक्तरंजित इंतेफ़ाज़ा के रूप में सामने आएगा जिसके अंजाम की ज़िम्मेदारी उन लोगों पर होगी जो बहरैन के शासकों के दूस्साह को वैधता प्रदान कर रहे हैं।
.............................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :