Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 182794
Date of publication : 21/6/2016 1:32
Hit : 233

इराक़ के सलाहुद्दीन प्रांत के कई इलाक़े आज़ाद।

इराक़ के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता नसीर नूरी ने कहा है कि इराक़ के सुरक्षा बलों ने एक ख़ास ऑप्रेशन करके सलाहुद्दीन प्रांत के उत्तर में अशरक़ात के पास स्थित दसियों गांवों और क्षेत्रों को आतंकवादी गुट आईएसआईएल के तत्वों से आज़ाद करा लिया है।


विलायत पोर्टलः नहरैन वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार इराक़ के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता नसीर नूरी ने कहा है कि इराक़ के सुरक्षा बलों ने एक ख़ास ऑप्रेशन करके सलाहुद्दीन प्रांत के उत्तर में अशरक़ात के पास स्थित दसियों गांवों और क्षेत्रों को आतंकवादी गुट आईएसआईएल के तत्वों से आज़ाद करा लिया है। इस ऑप्रेशन में कई आतंकवादी मारे गए हैं। नसीर नूरी ने कहा कि सुरक्षा बल, शरक़ात शहर के प्रवेश द्वार को आज़ाद कराने और तकफ़ीरियों की सप्लाई लाइन काटने के लिए तैयार हैं। इराक़ के स्वयं सेवी बल के कमान्डर नाज़िम असदी ने भी कहा है कि शरक़ात की आज़ादी, फ़ल्लूज़ा शहर की आज़ादी की तुलना में आसान होगी क्योंकि स्वयंसेवी बल के जवान उसके आसपास के इलाकों में तैनात हैं। नाज़िम असदी का कहना था कि इराक़ के सुरक्षा बल फल्लूजा की आजादी के बाद आईएसआईएल के कंट्रोल वाले दूसरे शहरों को भी आज़ाद कराने की ताक़त रखते हैं और मूसिल के आसपास के क्षेत्रों की आज़ादी आईएसआईएल की सप्लाई लाइन काटे जाने की दृष्टि से बहुत अधिक महत्वपूर्ण है।
.............................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची