Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 182799
Date of publication : 21/6/2016 23:45
Hit : 320

इमाम रज़ा (अ.स.) के रौज़े पर 15 ईसाइयों ने इस्लाम मज़हब क़बूल किया।

समाचार एजेंसी इर्ना के अनुसार पवित्र शहर मशहद में इमाम रज़ा (अ.स.) के रौज़े में विदेशी श्रद्धालुओं के विभाग के निदेशक जवाद हाशमी नेज़ाद ने बताया है कि वर्तमान ईरानी साल के शुरू के तीन महीनों में 6 देशों के 15 इसाईयों ने इस्लाम मज़हब को क़बूल किया है।


विलायत पोर्टलः समाचार एजेंसी इर्ना के अनुसार पवित्र शहर मशहद में इमाम रज़ा (अ.स.) के रौज़े में विदेशी श्रद्धालुओं के विभाग के निदेशक जवाद हाशमी नेज़ाद ने बताया है कि वर्तमान ईरानी साल के शुरू के तीन महीनों में 6 देशों के 15 इसाईयों ने इस्लाम मज़हब को क़बूल किया है। शिया मुसलमान बनने वालों में 9 महिलाएं और 6 पुरुष शामिल हैं। इस्लाम मज़हब क़बूल करने वाले लोगों का संबंध जर्मनी, पुर्तुगाल, स्वीडन, थाईलैंड, लेबनान, इटली और इथियोपिया से है। जवाद हाशमी नेज़ाद ने बताया कि शिया मुसलमान होने वाले इन विदेशी नागरिकों में ज़्यादातर का संबंध स्वीडन से था और उनकी उम्र 25 से 50 साल के बीच थीं। इस्लाम मज़हब क़बूल करने वालों का कहना है कि उन्होंने डीप स्टडी करने के बाद यह नतीजा निकाला कि शिया मज़हब ही इस्लाम का वास्ताविक रूप है। उल्लेखनीय है कि ईरान के पवित्र नगर मशहद में इमाम रज़ा (अ.स.) के पवित्र रौज़े पर हर साल कम से कम 27 लाख श्रद्धालु आते हैं और ज्ञात रहे कि इमाम रज़ा (अ.स.) के पवित्र रौज़े पर आए दिन लोग इस्लाम मज़हब को क़बूल करते हैं।
.............................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव का सम्मान करते हैं लेकिन इस्राईल की नकेल कसो : लेबनान दक्षिण कोरिया ने आंग सान सू ची से ग्वांगजू पुरस्कार वापस लेने का फैसला किया । सूडान ने इस्राईल के अरमानों पर पानी फेरा, संबंध सामान्य करने से किया इंकार । हज़रत फ़ातिमा मासूमा स.अ. सऊदी अरब का अमेरिका को कड़ा संदेश, हमारे मामले में मुंह बंद रखे सीनेट । इदलिब की आज़ादी प्राथमिकता, अतिक्रमणकारियों को सीरिया से भागना ही होगा : दमिश्क़ हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स की मांग, अमेरिका से राजनैतिक संबद्धता कम करे इंग्लैंड। अवैध राष्ट्र ने लगाई गुहार, लेबनान सेना पर दबाव बनाए अमेरिका । अमेरिकी गठबंधन आतंकी संगठनों की मदद से सीरिया के तेल संपदा को लूटने में व्यस्त । मासूमा ए क़ुम स.अ. की शहादत के शोक में डूबा ईरान, क़ुम समेत देश भर में मातम । अमेरिका ने स्वीकारा, असद को पदमुक्त करना उद्देश्य नहीं । सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़