Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 182800
Date of publication : 22/6/2016 4:27
Hit : 157

आतंकियों को अमेरीका ने दिखाई हरी झंडी।

अमेरीकी सिनेट ने संदिग्ध आतंकियों को हथियार बेचने पर रोक लगाने संबंधी प्रस्तावों को ख़ारिज कर दिया है।


विलायत पोर्टलः अमेरीकी सिनेट ने संदिग्ध आतंकियों को हथियार बेचने पर रोक लगाने संबंधी प्रस्तावों को ख़ारिज कर दिया है। हालांकि अभी हाल ही में फ़्लोरीडा के ओरलांडो शहर के नाइट क्लब पर एक आदमी की भयानक फ़ायरिंग में 50 लोग मारे जा चुके हैं। इस घटना के बाद अमेरीका में यह कोशिश शुरू हुई कि ओरलैंडो जैसी घटनाओं को रोकने के लिए हथियारों की बिक्री को कंट्रोल किया जाए। लेकिन अमेरीका की शक्तिशाली हथियार लाबियों के दबाव के आगे सिनेट झुक गई जहां रिपब्लिकन पार्टी बहुमत में है। सिनेट में पेश किए चार प्रस्तावों में से एक भी पास नहीं हो सका। एक प्रस्ताव में इस बात पर ज़ोर दिया गया था कि हथियार ख़रीदने वाले का पिछला रिकार्ड जांच लिया जाए और जो लोग पुलिस की निगरानी वाली लिस्ट में हैं उन्हें हथियार बेचे जाने को स्थगित कर दिया जाए। आतंकी गतिविधियों के संबंध में जिन लोगों पर संदेह है उन्हें हथियार न बेचा जाए लेकिन यह प्रस्ताव सिनेट में पारित नहीं हो सके। सिनेटरों ने कहा कि अमेरीकी संविधान में नागरिकों की हथियारों तक स्वतंत्र पहुंच के अधिकार से यह प्रस्ताव विरोधाभास रखते हैं। इसका मतलब इन सिनेटरों का कहना है कि अमेरीका में आतंकियों को भी हथियार ख़रीदने से नहीं रोका जा सकता। हालांकि यह साफ़ हो चुका है कि उमर मतीन नाम का आदमी जिसने ओरलैंडो का हमला किया था वह पहले से एफ़बीआई की नज़र में चरमपंथी विचार वाले आदमी के रूप में आ चुका था लेकिन फिर भी उसने हथियार ख़रीदा और 11 सितम्बर 2001 के बाद अमेरीका की दूसरी सबसे बड़ी आतंकी घटना अंजाम दे दी। अमेरीकी कांग्रेस हथियारों के मामले में जो रवैया अपनाए हुए है उसे देखते हुए इस बात की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता कि ओरलैंडो जैसी घटना कभी भी हो सकती है। टीकाकारों का मानना है कि अल्पसंख्यकों और अश्वेतों के अधिकारों और आज़ादी पर होने वाले हमलों पर चुप्पी साध लेने वाली अमेरीकी संसद हथियारों की बिक्री के मामले में नागरिक अधिकारों की बात हक़ीक़त में हथियार बनाने वाली बड़ी कंपनियों के दबाव में कर रही है। इस तरह यह संवैधानिक संस्था नागरिक आज़ादी के नाम पर हक़ीक़त में आम लोगों की जान ख़तरे में डाल रही है।
...........................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव का सम्मान करते हैं लेकिन इस्राईल की नकेल कसो : लेबनान दक्षिण कोरिया ने आंग सान सू ची से ग्वांगजू पुरस्कार वापस लेने का फैसला किया । सूडान ने इस्राईल के अरमानों पर पानी फेरा, संबंध सामान्य करने से किया इंकार । हज़रत फ़ातिमा मासूमा स.अ. सऊदी अरब का अमेरिका को कड़ा संदेश, हमारे मामले में मुंह बंद रखे सीनेट । इदलिब की आज़ादी प्राथमिकता, अतिक्रमणकारियों को सीरिया से भागना ही होगा : दमिश्क़ हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स की मांग, अमेरिका से राजनैतिक संबद्धता कम करे इंग्लैंड। अवैध राष्ट्र ने लगाई गुहार, लेबनान सेना पर दबाव बनाए अमेरिका । अमेरिकी गठबंधन आतंकी संगठनों की मदद से सीरिया के तेल संपदा को लूटने में व्यस्त । मासूमा ए क़ुम स.अ. की शहादत के शोक में डूबा ईरान, क़ुम समेत देश भर में मातम । अमेरिका ने स्वीकारा, असद को पदमुक्त करना उद्देश्य नहीं । सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़