Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 182831
Date of publication : 27/6/2016 23:0
Hit : 294

अमेरीका और सऊदी अरब, हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ हुए एकजुट।

अमेरीका और सऊदी अरब ने लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ अपने दबाव जारी रखते हुए इस संगठन के वित्तीय परिवेष्ठन पर सहमति जताई की है।


विलायत पोर्टलः अमेरीका और सऊदी अरब ने लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ अपने दबाव जारी रखते हुए इस संगठन के वित्तीय परिवेष्ठन पर सहमति जताई की है। फ़िलिस्तीनी समाचार पत्र अलमनार की वेबसाइट ने इस बात की तरफ़ इशारा करते हुए कि सीरिया में आतंकवाद से संघर्ष में हिज़्बुल्लाह की प्रमुख भूमिका से पश्चिम और सऊदी अरब बहुत क्रोधित हैं, लिखा कि वाशिंग्टन, रियाज़ व पेरिस ने जो इस आंदोलन को अपनी साज़िशों के क्रियान्वयन में सबसे बड़ी रुकावट समझते हैं, हिज़्बुल्लाह पर दबाव डालने और उसका वित्तीय परिवेष्टन करने पर सहमति जताई है। इस रिपोर्ट की बुनियाद पर सऊदी अरब के रक्षामंत्री ने अपनी अमेरीका की हालिया यात्रा में लेबनान के प्रतिरोध के ख़िलाफ़ तेलअवीव के साथ रियाज़ के सूचना सहयोग का विवरण देते हए अमेरीकी हल्क़ों के साथ हिज़्बुल्लाह के वित्तीय परिवेष्टन के बारे में बातचीत की। लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ अमेरीका और सऊदी अरब के दबाव की वजह, लेबनान के सेन्ट्रल बैंक ने हिज़्बुल्लाह से संबंधित 100 एकाउंट बंद कर दिए हैं।
..........................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची