Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 182845
Date of publication : 30/6/2016 18:49
Hit : 331

भारत का तीसरा बड़ा तेल सप्लायर ईरान है।

ईरान हरदिन भारत को पांच लाख बैरल तेल की आपूर्ति करके सऊदी अरब और इराक़ के बाद कच्चे तेल का तीसरा सबसे बड़ा सप्लायर है।

विलायत पोर्टलः ईरान हरदिन भारत को पांच लाख बैरल तेल की आपूर्ति करके सऊदी अरब और इराक़ के बाद कच्चे तेल का तीसरा सबसे बड़ा सप्लायर है। तेल व ऊर्जा सूचना नैटवर्क के अनुसार साल 2016 की पहली तिमाही में भारत को निर्यात किए गए कच्चे तेल की मात्रा 43 लाख 50 हज़ार बैरल प्रतिदिन रही है जो पिछले साल की पहली तिमाही की तुलना में लगभग 5 लाख बैरल ज़्यादा है। आंकड़ों के अनुसार भारत को कच्चा तेल निर्यात करने वालों में सऊदी अरब सबसे आगे है जो हरदिन साढ़े आठ लाख बैरल प्रतिदिन है। इराक़, भारत को हरदिन 6 लाख 58 हज़ार बैरल कच्चा तेल सप्लाई करता है। ईरान ने मार्च 2016 में भारत को प्रतिदिन पांच लाख पांच हज़ार बैरल कच्चा तेल निर्यात किया है जो उससे पहले महीने की तुलना में दो लाख 90 हज़ार बैरल ज़्यादा है। भारत की एस्सार कंपनी मार्च में ईरान के कच्चे तेल की सबसे बड़ी ग्राहक थी जिसने प्रतिदिन दो लाख 7 हज़ार बैरल कच्चा तेल आयात किया है जिसके बाद मेंगलोर और रिलायंस दूसरे और तीसरे नंबर पर हैं।
.......................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़ सऊदी अरब की सैन्य टुकड़ियां हैं आईएसआईएस और नुस्राह फ्रंट । ज़ायोनी सेना की गतिविधियां तेज़, लेबनान सेना ने अलर्ट । अय्याश सऊदी युवराज और मोहमद बिन ज़ायद पॉप गायिका मैडोना की राह पर, ली क़बालाह की शरण ईरान फ़ातेह और सहंद के बाद विशालकाय पनडुब्बी बनाने के लिए तैयार। इमाम हसन असकरी अ.स. के बाद सामने आने वाले फ़िर्क़े कुर्दों को अर्दोग़ान की धमकी, बंकरों को कुर्द लड़ाकों का मज़ार बन दूंगा । नोबेल विजेता की मांग, यमन युद्ध का हर्जाना दें सऊदी अरब और अमीरात । फ़िलिस्तीन का संकट लेबनान का संकट है , क़ुद्स का यहूदीकरण नहीं होने देंगे : मिशेल औन महत्त्वहीन हो चुका है खाड़ी सहयोग परिषद, पुनर्गठन एकमात्र उपाय : क़तर एयरपोर्ट के बदले एयरपोर्ट, दमिश्क़ पर हमला हुआ तो तल अवीव की ख़ैर नहीं ! तुर्की को SDF की कड़ी चेतावनी, कुर्द बलों को निशाना बनाया तो पलटवार के लिए रहे तैयार ।