Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184100
Date of publication : 8/11/2016 21:32
Hit : 230

अफ़्ग़ानिस्तान में अमेरिका, ब्रिटेन और इस्राइल भेज रहे हैं ISIL आतंकी।

अफ़ग़ान सांसद ने कहा कि आईएस को अमेरीका ब्रिटेन और ज़ायोनी शासन के विमानों से पाकिस्तान और फिर वहां से अफ़ग़ानिस्तान भेजा जा रहा है।

विलायत पोर्टलः अफ़ग़ान सांसद ने तकफ़ीरी आतंकवादी गुट आईएस को अमेरीका, ब्रिटेन और ज़ायोनी शासन की क्षेत्रीय नीति का अंजाम बताते हुए कहा है कि आईएस को अमेरीका ब्रिटेन और ज़ायोनी शासन के विमानों से पाकिस्तान और फिर वहां से अफ़ग़ानिस्तान भेजा जा रहा है। उबैदुल्लाह बारकज़ई ने सोमवार को काबुल में प्रेस कॉन्फ़्रेंस में यह बात कही। उन्होंने कहा कि अमेरीका रूस और चीन से मुक़ाबले के लिए पाकिस्तान में आतंकियों को ट्रेनिंग दे रहा है ताकि उन्हें मॉस्को और बीजिंग के ख़िलाफ़ इस्तेमाल करे। उन्होंने कहा कि अमेरीका, ब्रिटेन और ज़ायोनी शासन आतंकियों की ट्रेनिंग के लिए सबसे सही जगह पाकिस्तान को समझते हैं। उबैदुल्लाह बारकज़ई ने इसी तरह अफ़ग़ानिस्तान में आईएस के कमज़ोर होने के बारे में संयुक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट को ख़ारिज किया। ज्ञात रहे संयुक्त राष्ट्र संघ ने हाल में एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी जिसमें उसने कहा था कि अफ़ग़ानिस्तान में सरकार के ख़िलाफ़ आईएस सहित विरोधी गुटों में 45000 लोग शामिल है कि इनमें 22000 विदेशी हैं।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी....