Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184115
Date of publication : 9/11/2016 18:39
Hit : 260

अमेरीकी चुनाव पर ईरान ने जताई प्रतिक्रिया।

ईरान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने अमेरीकी नीतियों और क्षेत्रीय देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप को क्षेत्रीय जनता की भावनाओं को भड़काने, हिंसा और चरमपंथ में वृद्धि का मुख्य कारण बताया है।
विलायत पोर्टलः ईरान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने अमेरीकी नीतियों और क्षेत्रीय देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप को क्षेत्रीय जनता की भावनाओं को भड़काने, हिंसा और चरमपंथ में वृद्धि का मुख्य कारण बताया है। बहराम क़ासिमी ने अमेरीका में राष्ट्रपति चुनाव के परिणाम की घोषणा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि ईरान की जनता, पिछले कुछ दशकों के दौरान अमरीकी नेताओं के अतीत के व्यवहार और उनकी नीतियों का कटु अनुभव रखती है। विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि ईरानी जनता के लिए जो चीज़ महत्वपूर्ण है वह विश्वसनीयता और उनके सिद्धांतों की समीक्षा होगी, अमरीका की अगली सरकार की नीतियां और उसके क्रियाकलाप, चुनावी प्रतिस्पर्धा के दौरान उनके चुनावी एजेन्डे और नीतियां, अधिक महत्वपूर्ण हो सकती हैं। ईरान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता बहराम क़ासिमी ने कहा कि मध्यपूर्व, फ़ार्स की खाड़ी, अदन की खाड़ी और लाल सागर के स्ट्राटैजिक क्षेत्र की वर्तमान अशांत व अस्थाई स्थिति, भ्रष्ट विचारधारा, चरमपंथ और हिंसा के फैलने से उत्पन्न ख़तरे और आईएस जैसे ख़तरनाक आतंकी गुटों की ओर से फैलाए जा रहे खत़रे जिनके मुक़ाबले में ईरान अग्रिम पंक्ति में है, सभी क्षेत्र में अमेरीकी की नीतियों में गंभीर पुनर्विचार की आवश्यकता पर बल देते हैं। ज्ञात रहे कि अमेरीकी मीडिया ने देश में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान होने के बाद डोनल्ड ट्रंप के विजयी होने की घोषण कर दी है। डोनल्ड ट्रंप जनवरी 2017 में वाशिंग्टन में शपथ ग्रहण करेंगे।
....................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई