Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184228
Date of publication : 17/11/2016 18:20
Hit : 187

मुसलमान अपनी जान बचाने के लिए बांग्लादेश जाने पर मजबूरः मयांमार

म्यांमार में सेना की तरफ़ से दमन के बाद सैकड़ों मुसलमान अपनी जान बचाने के लिए बांग्लादेश जाने पर मजबूर हुए हैं।

विलायत पोर्टलः म्यांमार में सेना की तरफ़ से दमन के बाद सैकड़ों मुसलमान अपनी जान बचाने के लिए बांग्लादेश जाने पर मजबूर हुए हैं। इर्ना के अनुसार, बांग्लादेशी अधिकारियों का कहना है कि म्यांमार में सैनिकों के हमलों के बाद, अक्तूबर से अबतक 500 रोहिंग्या मुसलमान बांग्लादेश पहुंचे हैं। बांग्लादेश सीमा सुरक्षा पुलिस ने बुधवार को अनेक रोहिंग्या मुसलमानों को इस देश में दाख़िल होने से रोक दिया। लंदन स्थित एक मानवाधिकार संगठन के अनुसार, हालिया दिनों में म्यांमार सैनिकों के हाथों रोहिंग्या मुसलमानों की हत्या, उनकी महिलाओं के साथ बलात्कार और उनके घरों को आग लगाए जाने के कारण, म्यांमार के हालात के बारे में क्षेत्रीय देशों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों की चिंता बढ़ गयी है। म्यांमार में 11 लाख मुसलमान हैं और इनमें ज़्यादातर पश्चिमी राज्य राख़ीन में रहते हैं। राख़ीन राज्य में ही हिंसा की ताज़ा लहर उठी है। म्यांमार में सैनिकों के ताज़ा हमले में कम से कम 28 रोहिंग्या मुसलमान हताहत हुए हैं। स्थानीय सूत्रों का कहना है कि शनिवार से अबतक कम से कम 150 रोहिंग्या मुसलमान मारे जा चुके हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ के अनुसार, दुनिया में सबसे पीड़ित अल्पसंख्यकों में रोहिंग्या मुसलमान भी हैं। रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार की कुल आबादी का 4 प्रतिशत हैं।
....................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची