Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184271
Date of publication : 21/11/2016 17:19
Hit : 124

काबुल में इमाम हुसैन अ.स. के श्रद्धालुओं पर आत्मघाती हमले में, 27 लोग शहीद और 40 घायल।

यह हमला अफ़ग़ानिस्तान की राजाधानी काबुल में स्थित बाक़ेरुल उलूम मस्जिद में उस समय हुआ जब एक आत्मघाती आतंकी ने आज सोमवार को दोपहर की नमाज़ के समय मस्जिद में दाख़िल होकर ख़ुद को बम से उड़ा लिया।
विलायत पोर्टलः अफ़ग़ानिस्तान की राजाधानी काबुल में इमाम हुसैन अ.स. के श्रद्धालुओं पर हुए आतंकवादी हमले में 27 शहीद और 40 घायल हुए हैं। संवाददाता के अनुसार, यह हमला काबुल में स्थित बाक़ेरुल उलूम मस्जिद में हुआ। एक आत्मघाती आतंकी ने आज सोमवार को दोपहर की नमाज़ के समय मस्जिद में दाख़िल होकर ख़ुद को उड़ा लिया। शहीदों व घायल में कुछ बच्चे और औरतें भी हैं। यह हमला इतना ख़तरनाक था कि शहीद होने वालों की संख्या बढ़ सकती है। कुछ सूत्रों ने घायलों की संख्या 70 तक बताई है। अफ़ग़ानिस्तान के गृह मंत्रालय और काबुल पुलिस की विशेष इकाई के अध्यक्ष फ़रीदून उबैदी ने इस हमले की पुष्टि की है। रिपोर्ट मिलने तक किसी गुट ने इस आतंकवादी हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली थी लेकिन आम तौर पर इस तरह के आतंकी हमलों के लिए अफ़ग़ान अधिकारी आईएस और तालेबान को ज़िम्मेदार बताते हैं। ज्ञात रहे तकफ़ीरी आईएस के आतंकियों ने आशूर की पूर्व संध्या को काबुल के सख़ी इमामबाड़े पर हमला किया था, जिसमें बच्चों और औरतों सहित कई श्रद्धालु शहीद व घायल हुए थे। आईएस ने इसी तरह आशूर के दिन उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान के बल्ख़ प्रांत के केन्द्र मज़ार शरीफ़ शहर में इमाम हुसैन अ.स. के श्रद्धालुओं पर हमला किया था, जिसमें 17 श्रद्धालु शहीद और 40 अन्य घायल हुए थे।
...................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई