Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184290
Date of publication : 22/11/2016 17:23
Hit : 230

आले ख़लीफ़ा का एक और अन्यायपूर्ण आदेश, फ़ायरिंग का आरोप लगाकर बहरैनी नागरिक को सुनाई 15 साल की सज़ा।

बहरैनी प्रशासन ने देश में अपने अन्यायपूर्ण निर्देशों को जारी रखते हुए एक नागरिक को 15 साल और नागरिकता समाप्त करने की सज़ा सुनाई है।

विलायत पोर्टलः बहरैनी प्रशासन ने देश में अपने अन्यायपूर्ण निर्देशों को जारी रखते हुए एक नागरिक को 15 साल और नागरिकता समाप्त करने की सज़ा सुनाई है। फ़ार्स न्यूज़ एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार, बहरैन के उच्चतम न्यायालय ने मनामा के दक्षिणी शहर सितरा में एक बहरैनी नागरिक पर फ़ायरिंग का आरोप लगाया और उसे 15 साल जेल की सज़ा के साथ ही नागरिकता समाप्त करने और उसके माल को ज़ब्त करने की भी सज़ा सुनाई है। मुहम्मद बिन अली आले ख़लीफ़ा की खंडपीठ ने यह आदेश जारी किया। बहरैन की इस अदालत ने दावा किया है कि 22 मार्च 2015 को सितरा शहर में होने वाली फ़ायरिंग के दौरान एक पुलिसकर्मी घायल हो गया था। यह ऐसी स्थिति में है कि बहैरन की अदालत ने 27 अक्तूबर 2016 ने जनता के विरुद्ध दमनात्मक कार्यवाही करते हुए बहरैन की सुरक्षा के विरुद्ध कार्यवाही करने के निराधार आरोप लगाकर 22 नागरिकों की नागरिकता रद्द कर दी थी। बहरैन में फ़रवरी 2011 से आले ख़लीफ़ा शासन के विरुद्ध शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी हैं।
...................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी....