Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184333
Date of publication : 24/11/2016 18:35
Hit : 160

आईएस अफ़गानिस्तान सुरक्षा तंत्र के लिए गंभीर चुनौती बन रहा है।

आतंकवादी गुट आईएस ने अफ़गानिस्तान के विभिन्न क्षेत्रों में हमलों को तेज़ करके इस देश के सुरक्षा तंत्र के समक्ष गम्भीर चुनौती खड़ी कर दी है।

विलायत पोर्टलः आतंकवादी गुट आईएस ने अफ़गानिस्तान के विभिन्न क्षेत्रों में हमलों को तेज़ करके इस देश के सुरक्षा तंत्र के समक्ष गम्भीर चुनौती खड़ी कर दी है। हालिया दिनों में अफगानिस्तान के विभिन्न क्षेत्रों विशेषकर काबुल में होने वाला आतंकवादी हमला इस देश के आम जनमत में सुरक्षा को लेकर असमंजस की स्थिति उत्पन्न होने का कारण बना है। हालिया दिनों में काबुल में बाक़िरुल उलूम मस्जिद और इसी प्रकार हेरात में रेज़ाइया नामक शीया मस्जिदों में आतंकवादी हमले हुए थे जिनमें बड़ी संख्या में लोग हताहत व घायल हुए थे। इन हमलों के संबंध में दो बिन्दु उल्लेखीय हैं। पहला बिन्दु यह है कि यह हमला शीया मुसलमानों पर वह भी इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का शोक मनाने वालों पर किया गया और उसे साम्प्रदायिकता को हवा देने के लक्ष्य से किया गया हमला माना जा रहा है और अफगान अधिकारियों के अनुसार इस प्रकार के हमले मुख्य रूप से देश की सीमाओं से बाहर साम्प्रदायिक तत्वों द्वारा संचालित किये जाते हैं। आतंकवादी गुट आईएस ने काबुल में होने वाले हमले की ज़िम्मेदारी स्वीकार की है और उसने अफगानिस्तान में अपनी उपस्थिति की घोषणा भी कर दी है जिसके दृष्टिगत अफगानिस्तान के सुरक्षा तंत्रों और इस देश की सरकार को इस आतंकवादी गुट की अफगानिस्तान में उपस्थिति को हल्के में नहीं लेना और उसकी गतिविधियों से अपनी आंखों को नहीं मूंदना चाहिये। वास्तव में आतंकवादी गुट आईएस ने अफगानिस्तान के विभिन्न क्षेत्रों में हमलों को तेज़ करके इस देश के सुरक्षा तंत्र के समक्ष गम्भीर चुनौती खड़ी कर दी है। अफगानिस्तान में होने वाले हालिया हमलों के संबंध में दूसरा ध्यान योग्य बिन्दु सुरक्षा को सुनिश्चित बनाये जाने के संबंध में अफगान सुरक्षा बलों के क्रिया- कलाप हैं। क्योंकि अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों को इस बात की पूरी जानकारी है कि दाइश, लश्के झंगवी और हक्कानी जैसे आतंकवादी गुट इस देश में सक्रिय हैं और वे किसी भी समय आतंकवादी हमले कर सकते हैं। इस आधार पर काबुल की एक बड़ी मस्जिद में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का शोक मनाने वाले शीया मुसलमानों की सुरक्षा को सुनिश्चित न बना पाने को एक प्रकार से अफगान सुरक्षा बलों की कमज़ोरी समझी जा रही है। बहरहाल अफगान जनता की सुरक्षा को सुनिश्चित बनाना सुरक्षा बलों की जिम्मेदारी है और सरकार की ओर से केवल आतंकवादी हमलों की भर्त्सना काफी नहीं है क्योंकि लोग वर्षों के युद्ध और अतिग्रहण के बाद अपनी और अपनी संतान के लिए शांति व सुरक्षा के इच्छुक हैं।
...................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी....