Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184416
Date of publication : 1/12/2016 17:3
Hit : 205

आईएस रासायनिक हथियारों का धड़ल्ले से इस्तेमाल कर रहा है।

आईएस आतंकी संगठन और नुस्रा फ़्रंट जैसे रासायनिक हथियार निषेध संस्था में ईरान के प्रतिनिधि ने मंगलवार को हेग में कहा कि आतंकवादी संगठनों के समर्थक देशों को चाहिए कि वह इस बात का जवाब दें कि निर्दोष लोगों के ख़िलाफ़ रासायनिक हथियारों के प्रयोग के लिए आतंकियों के हाथ रासायनिक हथियार कैसे लगे।
विलायत पोर्टलः रासायनिक हथियार निषेध संस्था में ईरान के प्रतिनिधि ने मंगलवार को हेग में कहा कि आईएस आतंकी संगठन और नुस्रा फ़्रंट जैसे आतंकवादी संगठनों के समर्थक देशों को चाहिए कि वह इस बात का जवाब दें कि निर्दोष लोगों के ख़िलाफ़ रासायनिक हथियारों के प्रयोग के लिए आतंकियों के हाथ रासायनिक हथियार कैसे लगे। ईरान के प्रतिनिधि अली रज़ा जहांगीरी ने कहा कि आतंकियों के समर्थकों को अपने अपराधों का उत्तर देना चाहिए। उन्होंने हेग में रासायनिक हथियार कन्वेन्शन के सदस्य देशों के 21वें वार्षिक सम्मेलन में भाषण देते हुए इराक़ और सीरिया में आईएस और नुस्रा फ़्रंट जैसे आतंकी संगठनों के हाथों रासायनिक हथियारों के प्रयोग की रिपोर्टों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि जिन देशों ने आतंकियों की मदद की और रासायनिक हथियारों तक उनकी पहुंच को संभव बनाया उन्हें चाहिए कि बेगुनाह लोगों की मौतों का हिसाब दें। विभिन्न समाचारिक सूत्रों ने भी रिपोर्ट दी है कि वर्ष 2014 से अब तक आईएस ने सीरिया और इराक़ में 71 बार से अधिक रासायनिक शस्त्रों का प्रयोग किया। यह ऐसी स्थिति में है कि अरब और पश्चिमी सरकारें, सीरिया की सरकार पर रासायनिक हथियारों के प्रयोग का आरोप लगाने के कोशिश में हैं। सीरिया के उप विदेशमंत्री फ़ैसल मेक़दाद ने सोमवार को कहा था कि सीरिया सरकार पर रासायनिक हथियारों के प्रयोग का लगातार आरोप बिना किसी प्रमाण के कुछ पश्चिमी हल्क़ों की ओर से पेश किया जा रहा है। सीरिया संकट के आरंभ से ही कुछ पश्चिमी और अरब हल्क़ों की ओर से आईएस, नुस्रा फ़्रंट सहित अन्य आतंकी संगठनों की वित्तीय सामरिक सहायता होती रही है। सीरिया की सेना से युद्ध करने के लिए आतंकियों को आधुनिक हथियारों की खेप दी जाती रही हैं इनमें आईएस और नुस्रा फ़्रंट सर्वोपरि हैं। इन आतंकी संगठनों ने सीरिया में प्रयोगशाला पर कंट्रोल के बाद इसने हमलों के लिए रासायनिक पदार्थों का उत्पादन आरंभ कर दिया। आईएस की इन कार्यवाहियों से पता चलता है कि शिक्षित जवान, सीरिया में आईएस और नुस्रा फ़्रंट में शामिल हुए ताकि विशेष लक्ष्य के लिए काम कर सके। जानबूझकर आतंकियों के हाथों में रासायनिक हथियारों को मज़बूत करने की तकनीक देने के बारे में पश्चिम विशेषकर अमेरीका को जवाब देना होगा।
....................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई