Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184475
Date of publication : 6/12/2016 17:11
Hit : 314

ईरान के लिए जासूसी के आरोप में सऊदी अरब ने 15 लोगों को सुनाई मौत की सज़ा।

सऊदी अरब की एक अदालत ने ईरान के लिए जासूसी करने के निराधार आरोप में 15 लोगों को मौत की सज़ा सुना दी।
विलायत पोर्टलः सऊदी अरब की एक अदालत ने ईरान के लिए जासूसी करने के निराधार आरोप में 15 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई है। अलआलम टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, रियाज़ की फौजदारी की एक विशेष अदालत ने ईरान के लिए जासूसी करने के आरोप में दस महीने तक मुक़द्दमा चलाए जाने के बाद 15 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई है। इस मामले में 32 लोगों को आरोपी ठहराया गया था जिनमें से 30 सऊदी, 1 ईरानी और एक अफ़ग़ान नागरिक हैं। सऊदी न्यायालय के आदेश के आधार पर आरोपियों में से 15 को जेल की सज़ा सुनाई गई जबकि 15 को मौत की सज़ा सुनाई गई। दो लोगों को आरोप मुक्त कर दिया गया। इन आरोपियों को 2013 को ईरान के लिए जासूसी करने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था। इन आरोपियों में अधिकतर प्रसिद्ध शिया हस्तियां शामिल हैं जिनको देश की नीतियों की आलोचना की वजह से ईरान के लिए जासूसी करने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया है। 2013 में गिरफ़्तारी के बाद शिया मुसलमानों की इन प्रसिद्ध हस्तियों ने एक बयान में गृहमंत्रालय की ओर से अपने ऊपर लगे समस्त आरोपों का खंडन किया था और इसको निराधार बताया था। इसी बीच एमनेस्टी इंटरनैश्नल ने जासूसी के आरोप में चलाए जाने वाले इस मुक़द्दमे को हास्यासपद बताया है। मानवाधिकारों की रक्षा करने वाले इस अन्तर्राष्ट्रीय संस्था का कहना है कि अभियुक्तों को सफाई देने का कोई मौक़ा नहीं दिया गया और उन्हें अपने वकीलों से मिलने की अनुमति नहीं थी। एमनेस्टी इंटरनैश्नल के मध्यपूर्व मामलों के प्रभारी ने कहा है कि यह निर्णय, सऊदी अरब की न्याय व्यवस्था पर कलंक के टीके के समान है।
....................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई