Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185051
Date of publication : 14/1/2017 16:53
Hit : 275

अमेरीका ने अपने सैनिकों द्वारा अफ़ग़ानिस्तानी जनता के जनसंहार की घटना को स्वीकार किया।

अफ़ग़ानिस्तान में तैनात अमेरीकी सैन्य कमान ने एलान किया कि नवंबर महीने में क़ुन्दूज़ प्रांत में तालेबान के साथ अमेरीकी सैनिकों की झड़प के बारे में हुई जांच का नतीजा दर्शाता है कि अमेरीकी सैनिकों ने अफ़ग़ान जनता के घरों पर फ़ायरिंग की थी।

विलायत पोर्टलः अफ़ग़ानिस्तान में तैनात अमेरीकी सैन्य कमान ने एलान किया कि नवंबर महीने में क़ुन्दूज़ प्रांत में तालेबान के साथ अमेरीकी सैनिकों की झड़प के बारे में हुई जांच का नतीजा दर्शाता है कि अमेरीकी सैनिकों ने अफ़ग़ान जनता के घरों पर फ़ायरिंग की थी। यह जांच उस वक़्त शुरु हुई जब कुछ रिपोर्टों में यह दावा किया गया था कि क़ुन्दूज़ के एक गांव में आम लोगों की मौत अमेरीका के हवाई हमलों से हुई थीं। अमेरीकी सैनिकों की इस फ़ायरिंग में 33 बेगुनाह हताहत और 27 घायल हुए थे। अमेरीका ने यह अपराध ऐसी हालत में किया कि अक्तूबर 2015 में क़ुन्दूज़ शहर में डॉक्टर्ज़ विदाउट बोर्डर्ज़ के अस्पताल पर अमेरीकी सेना के हवाई हमले में कम से कम 30 लोग हताहत और दसियों अन्य घायल हुए थे। क़ुन्दूज़ सहित अफ़ग़ानिस्तान के विभिन्न इलाक़ों पर अमेरीकी सेना ने ऐसी स्थिति में हमले किए हैं कि 2014 के अंत में अफ़ग़ानिस्तान में विदेशी सैनिकों का अभियान ख़त्म हो गया और उसके बाद अमेरीका और नेटो ने काबुल सरकार को यह वचन दिया था कि सिर्फ़ उसके अनुरोध पर अफ़ग़ान वायु सेना की मदद के लिए हवाई कार्यवाही करेंगे। अमेरीकी सैन्य कमान का क़ुन्दूज़ प्रांत में बेगुनाह लोगों के जनसंहार की बात स्वीकार करना, अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान के ख़िलाफ़ सैन्य अभियान में हस्तक्षेप न करने के वॉशिंग्टन के वादे के उल्लंघन की एक और घटना है। ऐसी हालत में कि अमेरीकी सेना ने नंवबर में क़ुन्दूज़ प्रांत की जनता के जनसंहार को अमेरीकी सैनिकों की सीधी फ़ायरिंग का परिणाम माना है, अफ़ग़ानिस्तान में अमेरीका को जंग छेड़े हुए 15 साल से ज़्यादा का समय हो रहा है, लेकिन अब तक वॉशिंग्टन ने अफ़ग़ानिस्तान में अपने अपराधी सैनिकों के ख़िलाफ़ कोई भी क़ानूनी कार्यवाही नहीं की। शायद इसी वजह से और अफ़ग़ानिस्तान में अमेरीका के युद्ध अपराध की बढ़ती घटनाओं के कारण कुछ समय पहले अंतर्राष्ट्रीय अपराध न्यायालय ने अफ़ग़ानिस्तान में अमेरीकी सैनिकों के अपराधों की जांच शुरु करने की की बात कही थी। अगर अंतर्राष्ट्रीय अपराध न्यायालय ने अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी सैनिकों के अपराधों की जांच करने के अपने वादे को पूरा कर दिखाया तो इस बात की प्रबल संभावना है कि अफ़ग़ानिस्तान में विदेशी सैनिकों और ख़ास तौर पर अमेरीकी सैनिकों के जघन्य अपराध के और ख़तरनाक आयाम से दुनिया अवगत होगी।
...................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान पर आतंकी हमला, बिन सलमान ने दिया पाकिस्तान को 20 अरब डॉलर का इनाम : डी मेडी टेलीग्राफ ज़रूरत पड़ी तो अमेरिका को हमलों का निशाना बनाने को तैयार : रूस हिज़्बुल्लाह ने सेना और देशवासियों के साथ मिलकर लेबनान को सीरिया जैसी दुर्दशा से बचा लिया । पुतिन की नसीहत , विनाशकारी सियासत से बाज़ आए अमेरिका क़तर का आले सऊद पर हमला, हज को राजनैतिक हथियार के रूप में प्रयोग कर रहा है सऊदी अरब। सऊदी युवराज की भारत यात्रा के विरोध में हुए विशाल विरोध प्रदर्शन । वेनेज़ुएला संकट, अमेरिकी हस्तक्षेप की आशंका , सेना हाई अलर्ट । दमिश्क़ कुर्दों का समर्थन करने के लिए तैयार । इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब