Tuesday - 2018 July 17
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185164
Date of publication : 22/1/2017 9:11
Hit : 282

सीरिया में आईएस के इनकम सोर्स क्या हैं?

2016 की शुरुआत में सीरिया के अंदर तेल उत्पादन वाले 10 प्रतिशत क्षेत्र पर आईएस का क़ब्जा था इसी तरह इराक़ में तेल उत्पादन वाले 10 प्रतिशत क्षेत्रों और लगभग 300 तेल के कुओं पर आईएस का क़ब्जा था


विलायत पोर्टल: अक्टूबर 2015 में अमेरिकी कांग्रेस की आंतरिक सुरक्षा समिति ने विभिन्न आतंकवादी संगठनों की आमदनी की रिपोर्ट जारी की, सीरिया में मीडिया सेंटर ने उन कागज़ात की जांच की और उन रिपोर्टों के ओरिजनल होने के बारे में रिसर्च की।
इस रिपोर्ट के विश्लेषण से पता चलता है कि आईएस जैसे संगठनों के आय के बड़े स्रोतों में पेट्रोल और गैस, अनाज, उर्वरक, सीमेंट और नमक जैसे खनिज आदि शामिल हैं, इसके अलावा ऐतिहासिक दुर्लभ चीज़ों को काले बाजार में बेचकर पैसा कमाना।इन स्रोतों के अलावा उनके अन्य इनकम सोर्स, चोरी, डाका, फिरौती के लिए अपहरण और खाड़ी के राज्यों से वित्तीय सहायता के अलावा टैक्स की आमदनी है।नए इनकम सोर्सों में से जिसे वह «कैपिटल मैनेजमेंट एंड ग्रोथ» का नाम देते हैं के तहत पश्चिमी देशों में आपराधिक गतिविधियां, आम लोगों से चंदा हासिल करना (जो कि कुल बजट का 2 प्रतिशत बनता है) और कुछ इस्लामी समाज कल्याण संगठनों से इंटरनेट के माध्यम से सीधे तौर पर चंदा जमा करना।1.    तेल निर्यातइस रिपोर्ट के अंदर आईएस और उस जैसे आतंकी संगठनों के इनकम सोर्सेज़ की पूरी जानकारी और आंकड़े बताए गए हैं, उदाहरण स्वरूप 2016 की शुरुआत में सीरिया के अंदर तेल उत्पादन वाले 10 प्रतिशत क्षेत्र पर आईएस का क़ब्जा था इसी तरह इराक़ में तेल उत्पादन वाले 10 प्रतिशत क्षेत्रों और लगभग 300 तेल के कुओं पर आईएस का क़ब्जा था।2015 में इन आतंकवादी संगठनों (आईएस सहित) की इनकम एक अरब डॉलर तक पहुंच चुकी थी जिसमें 508 मिलियन डॉलर से अधिक की राशि केवल पेट्रोल से प्राप्त हुई थी। रिपोर्ट के अनुसार इसी साल अर्थात 2015 में ही प्रतिदिन इन आतंकी संगठनों का पेट्रोल का उत्पादन 80 हजार से 1 लाख 20 हजार बैरल तक पहुंच गया था जिसकी क़ीमत 2 से 4 लाख डॉलर बनती है।गौरतलब है कि इस काम (तेल उत्पादन) पर इन आतंकवादी संगठनों के 125 सुपरवाइज़र और 1600 मज़दूर काम करते हैं, आईएस संगठन इस तेल को न केवल तुर्की तस्करी करता है बल्कि तुर्की और सीरिया की सीमा पर मौजूद पाइपलाइनों के माध्यम से ख़ास कर यूरोप में मौजूद कई व्यापारियों को भी पेट्रोल तस्करी करता है।रिपोर्ट के अनुसार हर महीने आईएस को पेट्रोल के व्यापार से प्राप्त होने वाली आय चालीस से पचास लाख डालर है।जिसमें तेल उत्पादन का सबसे बड़ा हिस्सा सीरिया का दैरूज्ज़ोर प्रांत है।2.    ख़ेतीरिपोर्ट में मौजूद आंकड़ों के अनुसार इराक़ में आईएस के क़ब्ज़े वाले क्षेत्रों में 4 लाख किसानों द्वारा गेहूं के उत्पादन से प्रतिवर्ष 200 मिलियन डॉलर की आमदनी होती है और यह आईएस की आय का एक बड़ा स्रोत है।फुरात और दजला की उपजाऊ ज़मीन पर कब्जा करने के बाद आईएस ने इराक़ और सीरिया के ख़ेती वाली ज़मीनों को अपने कब्जे में ले लिया जिसकी वजह से क्षेत्रीय लोगों को भुखमरी का सामना करना पड़ा।अब तक आईएस को खेती के माध्यम से प्राप्त होने वाली आय का सही अनुमान लगाना मुश्किल है लेकिन अप्रैल 2015 में अमेरिकी कांग्रेस में पेश की गई एक रिपोर्ट से पता चलता है कि केवल गेहूं उत्पादन से प्राप्त वार्षिक आय लगभग 200 मिलियन डॉलर है, (इसके बावजूद कि आईएस इस गेहूं को 50 प्रतिशत की रियायती कीमत पर बेचता है)।कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि आईएस इराक़ और सीरिया से प्राप्त होने वाले गेहूं की सच्चाई को छिपाने के लिए अन्य क्षेत्रों के गेहुंओं में मिक्स करके बेचता है ताकि इस गेहूं के स्रोत का पता न चल सके।यह आतंकवादी संगठन कृषि फार्म और मशीनरी को अपने कब्जे में लेकर उसे उन्हीं के मालिकों को किराए पर देकर भी कमाई करते हैं।3. ऐतिहासिक दुर्लभ चीज़ों की काले बाजार में बिक्रीऐतिहासिक दुर्लभ चीज़ों की बिक्री इन आतंकवादी संगठनों की आय का एक बड़ा स्रोत है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि आईएस ऐतिहासिक कलाकृतियों के व्यापार से प्रतिवर्ष 100 मिलियन डॉलर की राशि प्राप्त करता है, आईएस द्वारा बेची गई इन प्राचीन वस्तुओं को न्यूयॉर्क और लंदन में देखा गया है।दरअसल आईएस सीधे तौर पर पुरातात्विक काम में लिप्त नहीं है बल्कि वह काले बाजार के पुरातत्वविदों को लाइसेंस जारी करता है और उनसे टैक्स वसूल करता है, (हलब में पुरातात्विक काले बाजार के विशेषज्ञों से 20 प्रतिशत, जबकि रिक्का में 50 प्रतिशत टैक्स वसूल किया जाता है)। (click my website wilayat.in)अमेरिका के पुरातात्विक संगठन के अनुसार इन कलाकृतियों की बड़ी खेप को लेबनान के रास्ते से तुर्की, सऊदी अरब, क़तर और यूरोपीय देशों तक पहुंचाया गया।विभिन्न स्रोतों से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार आईएस को इन ऐतिहासिक कलाकृतियों से प्राप्त होने वाली आय सालाना 100 मिलियन डॉलर है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :