Thursday - 2018 Sep 20
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185220
Date of publication : 24/1/2017 18:51
Hit : 216

आस्ताना बैठक समाप्त, सीरिया संकट के समाधान के लिए होने वाले प्रयास नये चरण में प्रविष्ट हो गए।

सीरिया संकट के राजनीतिक समाधान के लिए प्रयास जारी हैं। इसी संबंध में क़ज़्ज़ाकिस्तान की राजधानी आस्ताना में बैठक हुई जिसमें विभिन्न पहलुओं पर चर्चा हुई।
विलायत पोर्टलः
सीरिया संकट के राजनीतिक समाधान के लिए प्रयास जारी हैं। इसी संबंध में क़ज़्ज़ाकिस्तान की राजधानी आस्ताना में बैठक हुई जिसमें विभिन्न पहलुओं पर चर्चा हुई। सीरिया संकट की जटिलता और सीरिया मामले के संबंध में विभिन्न देशों की भूमिका के दृष्टिगत आस्ताना बैठक इस संकट के समाधान की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है और यह वार्ता ईरान और रूस की सीधी भूमिका और बाद में तुर्की के मॉस्को वार्ता से जुड़ जाने के बाद हुई। मॉस्को की त्रिपक्षीय बैठक में होने वाली सहमति, सबसे पहले सीरिया में आतंकवादी गुट आईएस और नुस्रा फ्रंट के अलावा संघर्ष विराम का कारण बनी और उसके बाद वह आस्ताना बैठक का कारण बनी। इस समय आस्ताना बैठक के बारे में कई अटकलें लगाई जा रही हैं। इस संबंध में एक विचार यह है कि यह वार्ता जनेवा वार्ता का कारण बनेगी जो संभवतः अगले महीने फरवरी में होगी। इस स्थिति में यह वार्ता महत्वपूर्ण होगी और उसका अर्थ यह होगा कि सीरिया संकट के राजनीतिक समाधान के लिए ईरान और रूस ने जो प्रयास किये हैं उसका परिणाम निकला है और सीरिया में शांति स्थापित होने की आशा में रहना चाहिये। अलबत्ता इस बात को बल देकर कहना चाहिये कि आतंकवादियों और विद्रोहियों से मुकाबले में सीरियाई सेना को जो सफलताएं मिली हैं आस्ताना वार्ता होने में उसकी भूमिका की अनदेखी नहीं की जा सकती। दूसरे शब्दों में मॉस्को की त्रिपक्षीय बैठक में होने वाली सहमति और सीरियाई सेना को मिलने वाली सफलता ने आस्ताना बैठक की भूमि प्रशस्त की। आस्ताना बैठक से पहले रूसी और तुर्क अधिकारियों ने कहा था कि संभवतः इस बैठक में अमेरिकी और सऊदी प्रतिनिधिमंडल भी भाग लेंगे परंतु संघर्ष विराम के संबंध में अमेरिकी नीतियों की विफलता के अतीत के दष्टिगत उसे किनारे लगा दिया गया। यूरोपीय संघ की भी आस्ताना वार्ता में कोई सीधी भूमिका नहीं थी जबकि इस वार्ता से पहले रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतीन ने जर्मन चांसलर अंगेला मर्केल और फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसवा ओलांड से टेलीफोन पर विचार- विमर्श किया था। बहरहाल सीरिया संकट के समाधान के लिए होने वाले प्रयास नये चरण में प्रविष्ट हो गये हैं और उनमें सबसे महत्वपूर्ण सीरियाई- सीरियाई पक्षों के मध्य वार्ता है जो ईरान की प्रभावी भूमिका और संयुक्त राष्ट्रसंघ के समर्थन का परिणाम है।
...................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :