Thursday - 2018 August 16
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185371
Date of publication : 31/1/2017 13:19
Hit : 416

अहले सुन्नत की किताबों की रौशनी में

शिया रसूले इस्लाम स.अ. की ज़बानी (3) अली के शियों के चेहरे क़यामत के दिन नूरानी होंगे।

जब सारी उम्मतों को हिसाब किताब के लिए बुलाया जाएगा तो तुम लोग नूरानी और चमकते दमकते चेहरों के साथ बुलाए जाओगे................................



عن علیّ قال: قال لی رسول اللَّه (صلى الله علیه و آله): «ألم تسمع قوله: إنَّ الَّذِین آمنُوا وَعَمِلُوا الصَّالِحَاتِ أُولئِک هُمْ خَیرُ البَریَّة: هم أنت وشیعتک، موعدی و موعدکم الحوض إذا جاءت الأُمم للحساب تدعون غرّاً محجّلین»
हज़रत अली अ. ने फ़रमाया कि रसूले इस्लाम स.अ. ने मुझसे फ़रमायाः ऐ अली क्या तुमने अल्लाह तआला का यह फ़रमान नहीं सुना कि “बेशक जो लोग ईमान लाए और अच्छे काम अंजाम देते हैं और वही ख़ैरुल बरीयः (बेहतरीन इंसान) हैं” और ख़ैरुल बरीयः (बेहतरीन इंसान) से मुराद तुम और तुम्हारे शिया हैं। हम और तुम हौज़े कौसर पर मुलाक़ात करेंगे जब सारी उम्मतों को हिसाब किताब के लिए बुलाया जाएगा तो तुम लोग नूरानी और चमकते दमकते चेहरों के साथ बुलाए जाओगे।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :