Monday - 2018 August 20
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185448
Date of publication : 3/2/2017 12:1
Hit : 312

हज़रत ज़ैनब (स)।

आपका नाम ज़ैनब है, अस्ल में «زین اب» यानी बाप की ज़ीनत। हज़रत ज़ैनब (स) की विलादत की तारीख़ जो शियों के बीच मशहूर है पांच जमादिउल अव्वल छः हिजरी है, जिस तरह इमाम हुसैन (अ) का नाम अल्लाह की तरफ़ से रखा गया इसी तरह आपका नाम भी अल्लाह की तरफ़ से तय हुआ।



विलायत पोर्टलः आपका नाम ज़ैनब है, अस्ल में «زین اب» यानी बाप की ज़ीनत। हज़रत ज़ैनब (स) की विलादत की तारीख़ जो शियों के बीच मशहूर है पांच जमादिउल अव्वल छः हिजरी है, जिस तरह इमाम हुसैन (अ) का नाम  अल्लाह की तरफ़ से रखा गया इसी तरह आपका नाम भी अल्लाह की तरफ़ से तय हुआ।
जब आप पैदा हुईं, जनाब फ़ातिमा (स) ने हज़रत अली (अ) से कहा:
«:«سمّ ھذہ المولودۃ، فقال ما کنت لأسبق رسول اللہ (کان فی سفر)، ولما جاء النبی(ص) ساله علی(ع) فقال ماکنت لاسبق ربّی اللہ تعالی، فھبط جبرئیل یقرء علی النبی السلام من اللہ الجلیل وقال له سمّ هذہ المولودۃ زینب، ثمّ اخبرہ بما یجری علیھا من المصائب فبکی النبی وقال من بکی علی مصائب ھذہ البنت کان کمن بکی علی اخویھا الحسن والحسین»۔ »।
इस नवजात बच्ची का नाम रख दीजिए। हज़रत अली (अ) ने फ़रमाया: मैं किसी भी काम में रसूले ख़ुदा (स) से आगे नहीं गया हूं चूंकि हज़रत रसूल ख़ुदा (स) सफ़र पर गए थे, जब आप वापस आए तो हज़रत अली (अ) ने बेटी का नाम रखने के लिए आपसे कहा तो आपने फरमाया: मैं भी किसी काम को अल्लाह की इजाज़त के बिना अंजाम नहीं देता हूं, उसी समय जिब्रईल अमीन नाज़िल हुए और रसूलुल्लाह (स।) तक अल्लाह का सलाम पहुंचाया और कहा: इस बच्ची का नाम ज़ैनब होगा, फिर रसूले ख़ुदा (स) को इस बच्ची पर होने वाले सारे दुख सुनाएं तो रसूले ख़ुदा (स) आंसू बहाने लगे, फिर फरमाया: जो भी इस बच्ची की मुसीबतों पर आंसू बहाएगा ऐसा है कि उनके भाई हसन और हुसैन (अ) पर आंसू बहाए।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :