Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185467
Date of publication : 4/2/2017 16:49
Hit : 625

ईरानी विदेशमंत्री ने दिया ट्रम्प को दो टूक जवाबः ईरान धमकियों से नहीं डरता।

ईरान के विदेशमंत्री जावद ज़रीफ़ ने ट्रम्प कि धमकियों के जवाब में कहा है कि ईरान किसी कि धमकियों से नहीं डरता क्योंकि हमारी शांति और सुरक्षा हमारी अपनी जनता से है


विलायत पोर्टलः ईरान के विदेशमंत्री जावद ज़रीफ़ ने ट्रम्प कि धमकियों के जवाब में कहा है कि ईरान किसी कि धमकियों से नहीं डरता क्योंकि हमारी शांति और सुरक्षा हमारी अपनी जनता से है। उन्होंने ट्वीट किया कि हम कभी भी युद्ध में पहल नहीं करेंगे हमारी ताक़त हमारी अपनी रक्षा के लिए है।
उन्होंने एक और ट्वीट करते हुए कहा कि हम अपनी रक्षा के अलावा कभी भी हथियार प्रयोग नहीं करेंगे देखते है कि हम पर आरोप लगाने वाले भी यही काम करते है या नहीं। ज़रीफ़ ने न्यूज़ीलैंड दौरे की अपनी वीडियो भी पोस्ट की जिसमे वह ईरान के मिसाइल कार्यक्रम को लेकर पत्रकारों का जवाब दे रहे है । ट्रम्प ने ट्वीट किया था कि ईरान आग से खेल रहा है तथा वह ओबामा की नीतियों की कद्र नहीं कर रहा है लेकिन में ऐसा नहीं हूँ।
ट्रम्प ने ईरान के खिलाफ सैन्य कार्यवाही के बारे में कहा था कि सभी विकल्प खुले हैं। ट्रम्प ने इससे पहले भी ईरान को लेकर ट्वीट किया था कि मिसाइल परीक्षण को लेकर ईरान को आधिकारिक रूप में चेतावनी दी जा चुकी है उन्हें ओबामा प्रशासन से होने वाले बेकार समझौते का धन्यवाद करना चाहिए था। ट्रम्प ने कहा कि ईरान अपनी आखिरी सांसे ले रहा था अमेरिका ने समझौते के रूप में उसमे नई जान फूंकी है पूरे १५० मिलियन डॉलर।
ज्ञात रहे कि ईरान ने सोमवार को अपनी बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया था। ईरान दुश्मनी में ट्रम्प अकेले नहीं है बल्कि अमेरिकी कांग्रेस के अध्यक्ष ने भी ब्रहस्पतिवार को ईरान पर प्रतिबन्ध कड़े करने की मांग की थी।



आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची