Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185475
Date of publication : 4/2/2017 18:8
Hit : 401

क्या ट्रम्प ईरान पर हमला करने की मूर्खता कर सकते हैं?

ट्रम्प जिस दिन से व्हाइट हाउस आए हैं उसी दिन से अजीब व्यवहार कर रहे है। कुछ मनोवैज्ञनिक उनकी अजीबो ग़रीब हरकतों को देख कर कह रहे हैं कि ट्रम्प आत्ममोह नामक मानसिक रोग से ग्रस्त हैं


विलायत पोर्टलः ट्रम्प जिस दिन से व्हाइट हाउस आए हैं उसी दिन से अजीब व्यवहार कर रहे है। कुछ मनोवैज्ञनिक उनकी अजीबो ग़रीब हरकतों को देख कर कह रहे हैं कि ट्रम्प आत्ममोह नामक मानसिक रोग से ग्रस्त हैं। यही कारण है कि उन्होंने पिछले १० दिनों में जो २० आदेश जारी किए हैं। उसने सबका ध्यान आकर्षित किया है और वह यह कि लोकतांत्रिक सिद्धांतों पर आधारित अमेरिकी सिस्टम के केंद्र में एक ही व्यक्ति है। अमेरिकी समाज और न्यायपालिका में ट्रम्प का विरोध शुरू हो चुका है कुछ न्यायधीशों ने ट्रम्प के वीज़ा नियमों को असंवैधानिक बताया है।
विश्लेषकों के अनुसार ट्रम्प अपनी इसी राजनीति को जारी रखेंगे जिससे अमेरिका में तनाव और ट्रम्प का विरोध बढ़ेगा। इस स्थिति में ट्रम्प की छवि रिपब्लिक पार्टी में भी धूमिल होगी जिससे डेमोक्रैट पार्टी को आने वाले चुनाव में फायदा होगा।
इतिहास साक्षी है कि जब जब बड़ी ताक़तों के अंदरूनी हालात बिगड़े हैं तो उन्होंने अपनी सीमाओं से बाहर युद्ध छेडा है ताकि देश के अंदर उठी असन्तोष की लहरो और सियासी विरोध को देशभक्ति के सामने अनदेखा कर दिया जाए अथवा देशद्रोही बताकर चुप करा दिया जाए। इसलिए सम्भावना है कि ट्रम्प इस सूरत में अमेरिकी सीमा से दूर कोई युध्द छेड़ बैठें। ट्रम्प और उनके सहयोगियों विशेषकर रक्षामंत्री की ईरान दुश्मनी को देखते हुए इस सम्भावना से इंकार नहीं किया जा सकता कि वो देश ईरान ही हो।
ट्रम्प की दुष्टता से बचने के लिए ईरान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर संयम और सूझबूझ का परिचय देना होगा। अभी विश्व समुदाय ट्रम्प से सहमत नहीं है और परस्थिति ईरान के हित में है लेकिन ईरान की कोई भी चूक माहौल को बदल सकती है ।
ईरान को अपनी विदेश नीति को इसी तरह होशियारी से आगे बढ़ाना होगा अगर ऐसी परस्थिति में अमेरिका ईरान के विरोध मे कोई क़दम भी उठाना चाहे तो विश्व समुदाय इस बात की कदापि अनुमति नहीं देगा।



आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची