Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 186364
Date of publication : 27/3/2017 15:35
Hit : 253

ईरान ने बहरैन के झूठे और बेबुनियाद आरोपों पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की ।

बहरैन को अपने उत्तर में स्थित पडोसी देश से अच्छा व्यवहार करते हुए ऐसे झूठे और बेबुनियाद आरोप लगाने से बचना चाहिये और अपनी आंतरिक समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करना चाहिये ।

विलायत पोर्टल :
ईरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता बेहराम क़ासेमी ने बहरैन सरकार के आरोपों को बेबुनियाद और कोरा झूठ बताते हुए कहा कि वह बहरैन द्वारा बार बार लगाए जाने वाले इन घटिया आरोपों पर हैरान हैं । उन्होंने कहा कि बहरैन सरकार को इन झूठे आरोपों की पुनरावृत्ति के बजाय बहरैनी नागरिको पर अत्याचारों को रोक कर उनके हितों की रक्षा एवं समाज के सभी वर्गों को अभिव्यक्ति की आज़ादी देने पर ध्यान देना चाहिये । क़ासेमी ने अच्छे पडोसी के कर्तव्य याद दिलाते हुए कहा कि बहरैन को अपने उत्तर में स्थित पडोसी देश से अच्छा व्यवहार करते हुए ऐसे झूठे और बेबुनियाद आरोप लगाने से बचना चाहिये और अपनी आंतरिक समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करना चाहिये ।
 .............
 प्रेस टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिज़्बुल्लाह से हार के बाद जीत का मुंह देखने को तरस गया इस्राईल : ज़ायोनी मंत्री शौहर क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो इस्राईल दहशत में, जौलान हाइट्स पर युद्ध छेड़ सकता है हिज़्बुल्लाह अय्याश सऊदी युवराज का दिमाग़ी संतुलन सही नहीं : लिंडसे ग्राहम ईरान प्रतिरोध का केंद्र और फिलिस्तीन का सच्चा समर्थक : सूर उलमा एसोसिएशन डूबते नेतन्याहू को ईरान परमाणु समझौते का सहारा ? सऊदी तानाशाह ने बोली इस्राईल की भाषा, ईरान के मिसाइल और परमाणु कार्यक्रम को रोके विश्व समुदाय सऊदी अरब पर शिकंजा कसा, जर्मनी ने 18 सऊदी लोगों पर प्रतिबंध लगाया अफ़ग़ानिस्तान के अधिकांश भाग पर तालेबान का क़ब्ज़ा, अमेरिका ने हार मानी ख़ाशुक़जी हत्याकांड के केंद्र में आया "अंधेरों का राजकुमार " आले सऊद शांति चाहते हैं तो यमन जवाबी हमले रोकने को तैयार : अल हौसी आयतुल्लाह फ़ाज़िल लंकरानी र.ह. की ज़िंदगी पर एक निगाह इदलिब, दमिश्क़ ने आतंकी संगठनों के खिलाफ सैन्य अभियान शुरू किया सऊदी अरब के साथ अपने संबंधों पर फिर विचार करे अमेरिका : बर्नी सैंडर्स आंग सान सू ची के साथ बराक ओबामा से भी छीना जाए नोबेल शांति पुरस्कार