Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 186403
Date of publication : 29/3/2017 15:57
Hit : 301

राजनैतिक विरोधियों की जानी दुश्मन बनी बहरैन तानाशाही ।

बहरैन वासी फरवरी २०११ से ही बहरैन प्रशासन के अत्याचारों के विरुद्ध, और समानाधिकार की मांग को लेकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं ।


विलायत पोर्टल :
रिपोर्ट के अनुसार बहरैन तानाशाही ने मुख्य विपक्षी दल अलविफाक़ के नेता शैख़ हसन ईसा को १० साल जेल की सज़ा सुनाई है । सूत्रों के अनुसार बहरैन तानाशाही के विरोधी मौहम्मद इब्राहिम और रज़ी अब्दुल्लाह की नागरिकता छीनते हुए मृत्यु दंड सुनाया गया है । ४ अन्य राजनैतिक विरोधियों की नागरिकता रद्द करते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई तथा ४ अन्य लोगों को ६ महीने से १० साल जेल की सजा सुनाई गयी है । ज्ञात रहे कि बहरैन प्रशासन ने गत वर्ष बहुसंख्यक शिया समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाले राजनैतिक दल अलविफाक़ की मान्यता रद्द कर दी थी । बहरैन वासी फरवरी २०११ से ही बहरैन प्रशासन के अत्याचारों के विरुद्ध, और समानाधिकार की मांग को लेकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं ।
.................
 प्रेस टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बर्नी सैंडर्स की मांग, सऊदी तानाशाही की नकेल कसे विश्व समुदाय । ईरान विरोधी बैठकों से कुछ हासिल नहीं, यादगारी तस्वीरें लेते रहे नेतन्याहू । हसन नसरुल्लाह का लाइव इंटरव्यू होगा प्रसारित,सऊदी इस्राईली मीडिया की हवा निकली । आले ख़लीफ़ा का यूटर्न , कभी भी दमिश्क़ विरोधी नहीं था बहरैन इदलिब , नुस्राह फ्रंट के ठिकानों पर रूस की भीषण बमबारी । हश्दुश शअबी की कड़ी चेतावनी, आग से न खेले तल अवीव,इस्राईल की ईंट से ईंट बजा देंगे । दमिश्क़ पर फिर हमला, ईरानी हित थे निशाने पर, जौलान हाइट्स पर सीरिया ने की जवाबी कार्रवाई । नहीं सुधर रहा इस्राईल, दमिश्क़ के उपनगरों पर फिर किया हमला। अमेरिका में गहराता शटडाउन संकट, लोगों को बेचना पड़ रहा है घर का सामान । हसन नसरुल्लाह ने इस्राईली मीडिया को खिलौना बना दिया, हिज़्बुल्लाह की स्ट्रैटजी के आगे ज़ायोनी मीडिया फेल । रूस और ईरान के दुश्मन आईएसआईएस को मिटाना ग़लत क़दम होगा : ट्रम्प फ़िलिस्तीनी जनता के ख़ून से रंगे हैं हॉलीवुड सितारों के हाथ इदलिब और हलब में युद्ध की आहट, सीरियन टाइगर अपनी विशेष फोर्स के साथ मोर्चे पर पहुंचे । देश छोड़ कर भाग रहे हैं सऊदी नागरिक , शरण मांगने वालों के संख्या में 318% बढ़ोत्तरी । इराक सेना अलर्ट पर किसी भी समय सीरिया में छेड़ सकती है सैन्य अभियान ।