Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 186503
Date of publication : 5/4/2017 18:36
Hit : 208

आतंक के विरुद्ध युध्द में असद का समर्थन जारी रखेंगे : रूस

रूस आतंक के विरुद्ध युद्ध में सीरिया के कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है हम आतंकियों के समूल विनाश तक असद का सहयोग जारी रखेंगे ।

विलायत पोर्टल :
रूसी राष्ट्रपति कार्यालय के प्रवक्ता देमेत्री पेस्कोफ़ ने इदलिब में हुए रासायनिक हमलों के बाद पश्चिमी जगत के पक्षपात पूर्ण रवैय्ये पर निराशा व्यक्त करते हुए कहा कहा कि उनका देश बश्शार असद का समर्थन जारी रखेगा । इदलिब हमले के बाद असद के समर्थन जारी रखने पर वाशिंगटन और मास्को में बढ़ने वाली संभावित दूरी के बारे में पूछे गए सवाल पर पेस्कोफ़ ने कहा कि रूस आतंक के विरुद्ध युद्ध में सीरिया के कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है हम आतंकियों के समूल विनाश तक असद का सहयोग जारी रखेंगे । उन्होंने पश्चिमी जगत द्वारा सीरिया पर लगाए जा रहे रासायनिक हमलों के बारे में कहा कि हम पहले ही कह चुके हैं कि यह हमले आतंकियों द्वारा किये गए हैं हमारा अथवा सीरिया सेना का इन हमलों से कोई लेना देना नहीं है।
.........................
अलआलम टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिज़्बुल्लाह से हार के बाद जीत का मुंह देखने को तरस गया इस्राईल : ज़ायोनी मंत्री शौहर क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो इस्राईल दहशत में, जौलान हाइट्स पर युद्ध छेड़ सकता है हिज़्बुल्लाह अय्याश सऊदी युवराज का दिमाग़ी संतुलन सही नहीं : लिंडसे ग्राहम ईरान प्रतिरोध का केंद्र और फिलिस्तीन का सच्चा समर्थक : सूर उलमा एसोसिएशन डूबते नेतन्याहू को ईरान परमाणु समझौते का सहारा ? सऊदी तानाशाह ने बोली इस्राईल की भाषा, ईरान के मिसाइल और परमाणु कार्यक्रम को रोके विश्व समुदाय सऊदी अरब पर शिकंजा कसा, जर्मनी ने 18 सऊदी लोगों पर प्रतिबंध लगाया अफ़ग़ानिस्तान के अधिकांश भाग पर तालेबान का क़ब्ज़ा, अमेरिका ने हार मानी ख़ाशुक़जी हत्याकांड के केंद्र में आया "अंधेरों का राजकुमार " आले सऊद शांति चाहते हैं तो यमन जवाबी हमले रोकने को तैयार : अल हौसी आयतुल्लाह फ़ाज़िल लंकरानी र.ह. की ज़िंदगी पर एक निगाह इदलिब, दमिश्क़ ने आतंकी संगठनों के खिलाफ सैन्य अभियान शुरू किया सऊदी अरब के साथ अपने संबंधों पर फिर विचार करे अमेरिका : बर्नी सैंडर्स आंग सान सू ची के साथ बराक ओबामा से भी छीना जाए नोबेल शांति पुरस्कार