Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 187021
Date of publication : 2/5/2017 11:5
Hit : 110

अवैध राष्ट्र और जर्मनी के बिगड़ते राजनैतिक संबंध ।

नेतन्याहू ने फोन कर विदेशमंत्री सिग्मर गैब्रिएल से बात करने का प्रयास किया ताकि वह सफाई दे सके कि वह यहूदी संगठन से उनकी मुलाक़ात का विरोध क्यों कर रहे थे लेकिन सिग्मर ने नेतन्याहू से कोई बात करने से इंकार कर दिया ।


विलायत पोर्टल :
जैसे जैसे समय बीत रहा है अवैध राष्ट्र और जर्मनी के संबंधों में खटास बढ़ती जा रही है । सूत्रों के अनुसार जर्मनी और अवैध राष्ट्र के बीच बढ़ती यह दूरी दोनों देशों के लिए राजनैतिक संकट खड़ा कर सकती है । एक ज़ायोनी समाचार पत्र ने एक राजनेता के हवाले से जर्मनी से बिगड़ते संबंधों पर लिखा है कि जर्मनी ने यूनेस्को में अवैध राष्ट्र के विरुद्ध प्रस्ताव पर वीटो नहीं किया बल्कि उसके विरुद्ध जाते हुए अरब राष्ट्रों से नज़दीकी संबंध स्थापित करने का प्रयास कर रहा है । गत सप्ताह अवैध राष्ट्र विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ सलाहकार ने तल अवीव में जर्मन राजदूत को बुलाकर यूनेस्को में जर्मनी के व्यवहार को लेकर कड़ी आपत्ति जताई थी.। ज्ञात रहे कि ज़ायोनी प्रधानमंत्री ने गत सप्ताह जर्मन विदेशमंत्री से मुलाक़ात के कार्यक्रम को इस लिए रद्द कर दिया था क्योंकि जर्मन विदेशमंत्री ने नेतन्याहू के विरोध को दर किनार करते हुए दो यहूदी संगठनों से भेंट की थी । जर्मन विदेशमंत्री ने नेतन्याहू से भेंट के कार्यक्रम को अधिक महत्व नहीं दिया लेकिन जर्मनी के मीडिया ने इसे अपमान बताया तो नेतन्याहू ने फोन कर विदेशमंत्री सिग्मर गैब्रिएल से बात करने का प्रयास किया ताकि वह सफाई दे सके कि वह यहूदी संगठन से उनकी मुलाक़ात का विरोध क्यों कर रहे थे लेकिन सिग्मर ने नेतन्याहू से कोई बात करने से इंकार कर दिया । ज्ञात रहे कि जर्मनी और अवैध राष्ट्र के संबंध अपने बुरे दौर से गुज़र रहे हैं । जर्मन अधिकारियों के अनुसार ट्रम्प के सत्ता सँभालते ही ज़ायोनी नेतृत्व के बदले हावभाव तथा फिलिस्तीनी भूमि पर अवैध आवासीय निर्माण दोनों देशों के संबंधों में खटास का कारण बना है । जर्मनी ने फिलिस्तीनी भूमि पर अवैध निर्माण का विरोध करते हुए अगले महीने होने वाली जर्मनी - अवैध राष्ट्र वार्षिक बैठक को स्थगित कर दिया है ।
.............
तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई बिन सलमान इस्राईल का सामरिक ख़ज़ाना, हर प्रकार रक्षा करें ट्रम्प : नेतन्याहू लेबनान इस्राईल सीमा पर तनाव, लेबनान सेना अलर्ट हिज़्बुल्लाह की पहुँच से बाहर नहीं है ज़ायोनी सेना, पलक झपकते ही नक़्शा बदलने में सक्षम हिंद महासागर में सैन्य अभ्यास करने की तैयारी कर रहा है ईरान हमास से मिली पराजय के ज़ख्मों का इलाज असंभव : लिबरमैन भारत और संयुक्त अरब अमीरात डॉलर के बजाए स्वदेशी मुद्रा के करेंगे वित्तीय लेनदेन । सामर्रा पर हमले की साज़िश नाकाम, वहाबी आतंकियों ने मैदान छोड़ा