Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 187133
Date of publication : 7/5/2017 16:17
Hit : 415

यूनेस्को के २०३० जैसे प्रस्ताव के आगे आत्मसमर्पण नहीं करेंगे : आयतुल्लाह ख़ामेनई

शिक्षक का कर्तव्य आने वाली पीढ़ी को शिक्षित करना है । उनको आस्थावान, वफादार , जिम्मेदार, आत्मविश्वासी, सच्चा, बहादुर , संस्कारी एवं बुद्धिजीवी बनाना है जो देश, व्यवस्था तथा जनहित का रक्षक हो ।


विलायत पोर्टल :
ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई ने शिक्षकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राष्ट्र यूनेस्को के २०३० जैसे प्रस्ताव के आगे आत्मसमर्पण नहीं करेगा । ईरानी जनता की शक्ति और दृढ़ता से हमारा दुशमन भयभीत है। उन्होंने देश के निर्माण में शिक्षकों के अहम योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि शिक्षक का कर्तव्य आने वाली पीढ़ी को शिक्षित करना है । उनको आस्थावान, वफादार , जिम्मेदार, आत्मविश्वासी, सच्चा, बहादुर , संस्कारी एवं बुद्धिजीवी बनाना है जो देश, व्यवस्था तथा जनहित का रक्षक हो । सुप्रीम लीडर ने राष्ट्रपति चुनावों की ओर इशारा करते हुए कहा कि अलग अलग विचारधारा के बावजूद इन चुनावों में भाग लेना देश की रक्षा और एकता का प्रतीक है। जिससे दुशमन भयभीत होता है और देश के विरुद्ध कोई गलत क़दम उठाने का दुस्साहस नहीं कर सकता।
 ..............
 तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई