Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 187208
Date of publication : 12/5/2017 11:56
Hit : 855

इमाम महदी अ.स. आपका जन्म और ग़ैबत ।

इमाम महदी अ. अल्लाह की आख़िरी निशानी हैं, आप का मिशन इस धरती पर न्यायप्रिय शासन की स्थापना करना है।

विलायत पोर्टल :
हम सब यह बात अच्छी तरह जानते हैं कि इमाम की पैदाइश को गुप्त रखा गया, लेकिन बहुत से लोगों के मन में इस बात के लेकर प्रश्न भी उठता है कि आपकी पैदाइश को गुप्त रखने का आख़िर क्या कारण था? इतिहास में इस प्रश्न का इस प्रकार उत्तर दिया गया है कि, बहुत सारी हदीसों में बयान हुआ है कि बनी अब्बास के तानाशाहों को यह बात स्पष्ट रूप से पता थी कि, इमाम हसन असकरी अ. के घर महदी नामक एक बेटा पैदा होने वाला है जो अत्याचारियों की ईंट से ईंट बजा देगा और पीड़ित लोगों की मदद करेगा और सारे संसार को अत्याचार और पाप से मुक्त कर देगा। यही कारण है कि अब्बासी बादशाह मोतमिद इमाम असकरी अ. के घर पर कड़ी निगाह रखे हुए था, यहाँ तक कि उसने कुछ दाईयो को लगा रखा था कि वह हर कुछ दिनों पर अलवियों ख़ास कर इमाम के घर जा कर पता करती रहें, और अगर किसी भी बच्चे के बारे में शक हो कि वह महदी है तो उसे तुरंत मार दें। यही कारण है कि अल्लाह की मर्ज़ी भी यह थी कि इमाम महदी अ. की पैदाइश को गुप्त रखा जाए। इमाम की ग़ैबत का कारण
 1. इमाम महदी अ. अल्लाह की आख़िरी निशानी हैं, आप का मिशन इस धरती पर न्यायप्रिय शासन की स्थापना करना है।
 2. अगर समाज ऐसी सत्ता प्रणाली को स्वीकार करेगा तभी ऐसे शासन की स्थापना संभव है।
 हदीसों में इमाम की ग़ैबत के कारणों को इस प्रकार बयान किया है।
1. न्यायिक सत्ता प्रणाली की स्थापना
2. इंसानों के आज़माने के लिए
3. आपकी सुरक्षा के लिए
मशहूर विद्वान मोहक़्क़िक़ तूसी अपनी किताब तजरीद में लिखते हैं कि, इमाम का होना अल्लाह का एहसान है,
इमाम को संसार के कार्यों में इख़्तियार देना यह दूसरा एहसान है, और उनका हमारे बीच न होना यह हमारी क्षमता की कमी है। (मजमूआ ए ज़िंदगानिए चहारदा मासूम, पेज 1274)
दूसरे शब्दों में ग़ैबत के कारणों को इस प्रकार बयान किया जा सकता है
1. लोगों को आज़माने के लिए।
2. अल्लाह की सुन्नत यही रही है कि कभी कभी अपने पैग़म्बर और वली को लोगों की निगाह से छिपा के रखता है।
3. हम अपने गुनाहों के कारण उन्हें नहीं देख पाते।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी....