Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 187556
Date of publication : 30/5/2017 13:39
Hit : 294

हिज़्बुल्लाह का खौफ, हैफा से अमोनिया प्लांट हटायेगी ज़ायोनी सरकार।

वह जानता है कि प्रतिरोधी आंदोलन ८ लाख लोगों की जान लेने की क्षमता रखने वाले एटम बम समान हैफा अमोनिया प्लांट को अपनी मिज़ाइलों का निशाना बनाने में सक्षम है एक प्रकार से वह कह सकते हैं कि प्रतिरोधी आंदोलन के पास परमाणु बम है "

विलयत पोर्टल :
प्राप्त जानकारी के अनुसार ज़ायोनी अदालत ने आदेश दिया है कि २१ जुलाई तक अमोनिया प्लांट को हैफा शहर से किसी अन्य जगह पर स्थान्तरित कर दिया जाये । ज्ञात रहे कि अमोनिया के १२ हजार टन के भंडारण को लेकर हिज़्बुल्लाह प्रमुख कई बार चेतावनी दे चुके है । उन्होंने अपने एक भाषण में कहा था कि "ज़ायोनी राष्ट्र हिज़्बुल्लाह के साथ युद्ध से भयभीत है क्योंकि वह जानता है कि प्रतिरोधी आंदोलन ८ लाख लोगों की जान लेने की क्षमता रखने वाले एटम बम समान हैफा अमोनिया प्लांट को अपनी मिज़ाइलों का निशाना बनाने में सक्षम है एक प्रकार से वह कह सकते हैं कि प्रतिरोधी आंदोलन के पास परमाणु बम है "। ज्ञात रहे कि इस प्लांट को स्थान्तरित करने के लिए पर्यावरणविद एवं अन्य ज़ायोनी लॉबी भी कैम्पेन चला रही थी । इस्राईल तकनीकी संस्थान के प्रोफेसर एहुद किनान ने अपनी रिपोर्ट में अवैध राष्ट्र की किसी भी शरारत के जवाब में हिज़्बुल्लाह के संभावित हमलों का उल्लेख करते हुए कहा था अमोनिया भंडार को हैफा से हटा लेने में ही भलाई है ।
 ............
फानूस


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान के पयाम सैटेलाइट ने इस्राईल और अमेरिका को नई चिंता में डाला सीरिया की स्थिरता और सुरक्षा, इराक की सुरक्षा का हिस्सा : बग़दाद आले सऊद की नई करतूत , सऊदी अरब में खुले नाइट कलब और कैसीनो । अमेरिका ने सीरिया से भाग कर ईरान, रूस और बश्शार असद को शक्तिशाली किया । ज़ुबान के इस्तेमाल के फ़ायदे और नुक़सान । सीरिया के विभाजन की साज़िश नाकाम, अमेरिका ने कुर्दों को दिया धोखा । सीरिया में अमेरिका का स्थान लेंगी मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात की सेना । बैतुल मुक़द्दस से उठने वाली अज़ान की आवाज़ पर लगेगी पाबंदी । दमिश्क़ की ओर पलट रहे हैं अरब देश, इस्राईल हारा हुआ जुआरी : ज़ायोनी टीवी शहीद बाक़िर अल निम्र, वह शेर मर्द जिसका नाम सुनकर आज भी लरज़ जाते हैं आले सऊद बश्शार असद की हत्या ज़ायोनी चीफ ऑफ स्टाफ की पहली प्राथमिकता ? यमन के सक़तरी द्वीप पर संयुक्त अरब अमीरात की नज़र क़तर के पूर्व नेता का सवाल, सऊदी अरब में कोई बुद्धिमान है जो सोच विचार कर सके ? अंसारुल्लाह का आरोप , यमन के लिए दूषित भोजन खरीद रहा है डब्ल्यू.एच.पी भारत ने दी ईरान को बड़ी राहत, तेल के लिए रुपये से पेमेंट के बाद अब टैक्स में भी छूट