Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 187576
Date of publication : 30/5/2017 18:7
Hit : 551

रोज़े की अहमियत और उसके फ़ायदे।

रोज़ा इंसान की रूह को पवित्र, इरादे और इच्छाशक्ति को मज़बूत करता है।

विलयत पोर्टल :
अल्लाह ने क़ुर्आन में फ़रमाया कि, ऐ ईमान वालों तुम्हारे लिए रोज़े को ऐसे वाजिब किया गया है जैसे तुम से पहले वालों पर किया गया था, ताकि तक़वा अपना सको। (सूरए बक़रह, आयत 183) रोज़ा शब्द का मतलब किसी भी चीज़ से अपने आप को रोकना, फ़िक़्ह की ज़बान में रोज़ेदार का अल्लाह के हुक्म से सुबह की अज़ान से मग़रिब की अज़ान तक रोज़ा बातिल करने वाली चीज़ों से दूरी बनाए रखने को कहते हैं। इतिहास में बहुस सारी दलीलों से यह बात साबित है कि रोज़े का हुक्म यहूदियों, ईसाईयों और भी दूसरे धर्मों में पाया जाता था, वह लोग दुख, मुसीबत, तौबा और अपने अल्लाह को राज़ी करने के लिए रोज़ा रखते थे, ताकि उसकी बारगाह में रोज़े के द्वारा अपनी परेशानी और विनम्रता को ज़ाहिर करते हुए अपने गुनाहों को स्वीकार कर सकें, जैसा कि बाइबिल में है कि हज़रत मसीह ने 40 दिन रोज़े रखे थे। (तफ़सीरे नमूना, जिल्द 1, पेज 633) क़ुर्आन साफ़ साफ़ बयान करता है कि रोज़ा पिछली उम्मतों पर वाजिब था। (सूरए बक़रह, आयत 183) रोज़ा रखने के अनेक प्रकार के लाभ हैं, जिनमें से अहम यह हैं....
1. रोज़ा इंसान की रूह को पवित्र, इरादे और इच्छाशक्ति को मज़बूत करता है। (सूरए बक़रह, आयत 183)
2. रोज़ा फ़क़ीर और अमीर के फ़र्क़ को मिटाता है, ताकि लोग भूक और प्यास को महसूस करके फक़ीरों और ग़रीबों का ख़्याल रखें। (इस बारे में बहुत सी हदीसें हैं पढ़ने के लिए देखें, मन ला यहज़ोरोहुल फ़क़ीह, जिल्द 2, हदीस 1766-1769)
3. रोज़े द्वारा स्वास्थ्य और चिकित्सा के मामलों को भी सुधारा जा सकता है, और यह हमारी सेहत और फ़िटनेस का भी कारण है। (पैग़म्बर की हदीस है, रोज़ा रखो ताकि फ़िट रहो) रोज़ा एक इबादत है, और अल्लाह के इस हुक्म पर अमल करने के लिए सुबह की अज़ान से लेकर मग़रिब की अज़ान तक हर उस चीज़ से दूर रहना ज़रूरी है जो रोज़े को बातिल कर देती हैं, और यही रोज़े की नियत भी है। अगर कोई जान बूझ कर कोई ऐसा काम करे जिस से रोज़ा बातिल हो जाता हो तो उसका रोज़ा बातिल हो जाएगा, और उसको न केवल रमज़ान के बाद दोबारा रखना होगा बल्कि कफ़्फ़ारह भी देना होगा, और कफ़्फ़ारह यह है कि उसे हर एक रोज़े के बदले दो महीने रोज़े रखे जिसमें 31 लगातार रखने होंगे, या 60 फ़क़ीरों को खाना खिलाए या हर फ़क़ीर को 750 ग्राम गेहूँ या जौ दे, और गेहूँ या जौ की जगह पैसे देना उसी समय सही है जब यक़ीन हो कि वह इन पैसें से खाना ही ख़रीदेगा और इन पैसों को मराजेअ के दफ़्तर में भी दिया जा सकता है या उन्हें जिनको मराजेअ की ओर से अनुमति हासिल हो।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हश्दुश शअबी का आरोप , आईएसआईएस को इराकी बलों की गोपनीय जानकारी पहुंचाता था अमेरिका ईरान के पयाम सैटेलाइट ने इस्राईल और अमेरिका को नई चिंता में डाला सीरिया की स्थिरता और सुरक्षा, इराक की सुरक्षा का हिस्सा : बग़दाद आले सऊद की नई करतूत , सऊदी अरब में खुले नाइट कलब और कैसीनो । अमेरिका ने सीरिया से भाग कर ईरान, रूस और बश्शार असद को शक्तिशाली किया । ज़ुबान के इस्तेमाल के फ़ायदे और नुक़सान । सीरिया के विभाजन की साज़िश नाकाम, अमेरिका ने कुर्दों को दिया धोखा । सीरिया में अमेरिका का स्थान लेंगी मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात की सेना । बैतुल मुक़द्दस से उठने वाली अज़ान की आवाज़ पर लगेगी पाबंदी । दमिश्क़ की ओर पलट रहे हैं अरब देश, इस्राईल हारा हुआ जुआरी : ज़ायोनी टीवी शहीद बाक़िर अल निम्र, वह शेर मर्द जिसका नाम सुनकर आज भी लरज़ जाते हैं आले सऊद बश्शार असद की हत्या ज़ायोनी चीफ ऑफ स्टाफ की पहली प्राथमिकता ? यमन के सक़तरी द्वीप पर संयुक्त अरब अमीरात की नज़र क़तर के पूर्व नेता का सवाल, सऊदी अरब में कोई बुद्धिमान है जो सोच विचार कर सके ? अंसारुल्लाह का आरोप , यमन के लिए दूषित भोजन खरीद रहा है डब्ल्यू.एच.पी