Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 187827
Date of publication : 13/6/2017 15:44
Hit : 438

तेहरान हमलों के लिए अमेरिका और आले सऊद ने जारी किये थे दिशा निर्देश ।

अमेरिका और आले सऊद के पालतू इन आतंकवादी संगठनों की करतूत इराक, सीरिया,लीबिया, मिस्र अफगानिस्तान और यूरोप में हुए कुछ हमलों में भलिभांति देख सकते हैं ।

विलायत पोर्टल :
 
प्राप्त जानकारी के अनुसार ईरान की सशस्त्र सेनाओं के वरिष्ठ प्रवक्ता कमांडर मसऊद जज़ायरी ने तेहरान हमलों की ओर संकेत करते हुए कहा कि अपराधियों ने इस बात को स्वीकार किया है कि यह हमले दाइश ने किये हैं । उन्होंने इन आतंकवादी संगठनों के गठन में अमेरिकी की मुख्य भूमिका पर प्रकाश डालते हुए कहा कि निसंदेह इन संगठनों को अमेरिका और आले सऊद द्वारा संचालित किया जाता है और वह इन आतंकवादी गुटों को क्षेत्रीय देशों में गतिविधियां चलाने के लिए ज़रूरी दिशा निर्देश और आर्थिक सहयोग प्रदान करते हैं ।  अमेरिका और आले सऊद के पालतू इन आतंकवादी संगठनों की करतूत इराक, सीरिया,लीबिया, मिस्र अफगानिस्तान और यूरोप में हुए कुछ हमलों में भलिभांति देख सकते हैं ।
..............
तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इंग्लैंड में हर साल 5200 लोग इस्लाम क़ुबूल कर रहे हैं… सीरिया में एक बार फिर तनाव बढ़ा, तुर्की की विस्तारवादी नीतिया चरम पर । ईरान पर आतंकी हमला, बिन सलमान ने दिया पाकिस्तान को 20 अरब डॉलर का इनाम : डी मेडी टेलीग्राफ ज़रूरत पड़ी तो अमेरिका को हमलों का निशाना बनाने को तैयार : रूस हिज़्बुल्लाह ने सेना और देशवासियों के साथ मिलकर लेबनान को सीरिया जैसी दुर्दशा से बचा लिया । पुतिन की नसीहत , विनाशकारी सियासत से बाज़ आए अमेरिका क़तर का आले सऊद पर हमला, हज को राजनैतिक हथियार के रूप में प्रयोग कर रहा है सऊदी अरब। सऊदी युवराज की भारत यात्रा के विरोध में हुए विशाल विरोध प्रदर्शन । वेनेज़ुएला संकट, अमेरिकी हस्तक्षेप की आशंका , सेना हाई अलर्ट । दमिश्क़ कुर्दों का समर्थन करने के लिए तैयार । इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान।