Monday - 2018 Sep 24
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 188880
Date of publication : 6/8/2017 16:58
Hit : 296

आले सऊद अपने नागरिकों पर अत्याचार का सिलसिला बंद करे : वाशिंगटन पोस्ट

सऊदी अरब अब भी अंधेर नगरी बना हुआ है। यहाँ अभिव्यक्ति कि आज़ादी नहीं है मानवाधिकारों का हनन हो रहा है , जो एक मॉडर्न तथा उन्नत देश होने के लिए कदापि उचित नहीं है, जिसका ताज़ा उदाहरण वह १४ शिया मुस्लिम युवक हैं जिन्हे आले सऊद के विरुद्ध आपत्ति जताने पर क्रूरता के साथ मृत्यु दंड सुना दिया गया है ।


विलायत पोर्टल : 
वाशिंगटन पोस्ट ने अपने ताज़ा लेख में आले सऊद के अत्याचारों तथा मानवाधिकार हनन को लेकर सऊदी अरब को सलाह दी है कि वह इस बारे में शीघ्र ही कोई उपाय करे । इस लेख में सऊदी युवराज की ओर संकेत करते हुए कहा गया है वह चाहता है कि सऊदी अरब तेल संपदा पर निर्भर न रहे लेकिन सऊदी अरब अब भी अंधेर नगरी बना हुआ है। यहाँ अभिव्यक्ति कि आज़ादी नहीं है मानवाधिकारों का हनन हो रहा है , जो एक मॉडर्न तथा उन्नत देश होने के लिए कदापि उचित नहीं है, जिसका ताज़ा उदाहरण वह १४ शिया मुस्लिम युवक हैं जिन्हे आले सऊद के विरुद्ध आपत्ति जताने पर क्रूरता के साथ मृत्यु दंड सुना दिया गया है । आले सऊद कह रहे हैं कि यह लोग हिंसक कार्यवाही में भाग लेते रहे हैं लेकिन मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि इन लोगों पर अत्याचार कर आले सऊद के एजेंटों ने ज़बरदस्ती बयान लिया है । इन लोगों में 21 वर्षीय मुज्तबा आले सूएकत भी है जिसे लोकतंत्र कि मांग करने के जुर्म में 2013 में दम्माम एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया उन पर आले सऊद विरोधी कुछ लोगों के समर्थन का भी आरोप लगाया गया। उन्हें जिस समय गिरफ्तार किया गया उनकी आयु मात्र 17 वर्ष थी तथा उन्हें बताया भी नहीं गया कि वह किस आरोप में गिरफ्तार हो रहे हैं । 22 जुलाई को मिशिगन कॉलेज के कुछ प्रोफेसरों ने कहा था कि मुज्तबा को कड़े टार्चर का निशाना बनाया जा रहा है, उन्हें मार पीट , गाली गलौच, सिगरेट से दाग़ना सोने न देना , जैसी अमानवीय यातनाएं दी जा रही है । इस लेख में कहा गया है कि ट्रम्प ने अपनी सऊदी यात्रा पर मानवाधिकार को लेकर कोई बात नहीं की लेकिन आले सऊद अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहे हैं सऊदी अरब को अगर विकास के पथ पर बढ़ना है, उसे मॉडर्न बनना है तो अपने विरुद्ध विरोध प्रदर्शन में भाग लेने वाले इन 14 शिया युवकों को रिहा करना ही होगा ।
 .................
 फ़ार्स न्यूज़


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :