Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190116
Date of publication : 21/10/2017 15:51
Hit : 170

सीरियन सेना ने क़रयतैन शहर को वहाबी आतंकी संगठन से मुक्त कराया ।

ज्ञात रहे कि अल क़रयतैन शहर दोनों पक्षों के लिए रणनीतिक हिसाब से बहुत महत्वपूर्ण है जिसे लेकर दाइश और सीरियन सेना में मुठभेड़ चलती रही है ।


विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार सीरियन सेना ने वहाबी आतंकी संगठन के विरुद्ध सफलता का क्रम जारी रखते हुए हुम्स के महत्वपूर्ण क़रयतैन शहर को वहाबी आतंकी संगठन से मुक्त करा लिया है । सीरियन सेना ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर वहाबी आतंकी संगठन के साथ कई दिन चली मुठभेड़ के बाद इस शहर को अपने नियंत्रण में ले लिया है । सीरियन सेना ने इस शहर में मौजूद अधिकांश वहाबी आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया है । ज्ञात रहे कि अल क़रयतैन शहर दोनों पक्षों के लिए रणनीतिक हिसाब से बहुत महत्वपूर्ण है जिसे लेकर दाइश और सीरियन सेना में मुठभेड़ चलती रही है ।
................................
फ़ार्स न्यूज़


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बीवी क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो ज़ायोनी युद्ध मंत्री लिबरमैन का इस्तीफ़ा, ग़ज़्ज़ा की राजनैतिक जीत : हमास अमेरिका की चीन को धमकी, हमारी मांगे नहीं मानी तो शीत युद्ध के लिए रहो तैयार देश को मुश्किलों से उभारना है तो राष्ट्रीय क्षमताओं का सही उपयोग करना होगा : आयतुल्लाह ख़ामेनई अय्याश सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान है ग़ज़्ज़ा पर वहशियाना हमलों का मास्टर माइंड : मिडिल ईस्ट आई आईएसआईएस के चंगुल से छुड़ाए गए लोगों से मिले राष्ट्रपति बश्शार असद ग़ज़्ज़ा में हार से निराश इस्राईल के युद्ध मंत्री ने दिया इस्तीफ़ा ज़ायोनी मीडिया ने माना, तल अवीव हार गया, हमास अपने उद्देश्यों में सफल क़तर का बड़ा क़दम, ईरान और दमिश्क़ समेत 5 देशों का गठबंधन बनाने की पेशकश एमनेस्टी इंटरनेशनल ने आंग सान सू ची से सर्वोच्च सम्मान वापस लिया ईरान की सैन्य क्षमता को रोकने में असफल रहेंगे अमेरिकी प्रतिबंध : एडमिरल हुसैन ख़ानज़ादी फिलिस्तीन, ज़ायोनी हमलों में 15 शहीद, 30 से अधिक घायल ग़ज़्ज़ा में हार से बौखलाए ज़ायोनी राष्ट्र ने हिज़्बुल्लाह को दी हमले की धमकी आले सऊद ने अब ट्यूनेशिया में स्थित सऊदी दूतावास में पत्रकार को बंदी बनाया मैक्रॉन पर ट्रम्प का कड़ा कटाक्ष, हम न होते तो पेरिस में जर्मनी सीखते फ़्रांस वासी