Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190270
Date of publication : 29/10/2017 16:53
Hit : 205

तुर्क सेना पर आपत्ति करने का अमेरिका को नहीं कोई अधिकार : अर्दोग़ान

क्षेत्र में अगर किसी देश की सेना की उपस्थिति पर आपत्ति की जाये वह वह खुद अमेरिका है, यह सवाल अमेरिका से होना चाहिए कि वह क्षेत्र में क्या कर रहा है ?

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार तुर्की के राष्ट्रपति रजब तय्यब अर्दोग़ान ने अमेरिका पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि दुनिया के दूसरे छोर से आने वाले अमेरिका को तुर्क सेना पर आपत्ति करने का कोई अधिकार नहीं है। अमेरिका कौन होता है जो यह सवाल करे कि क्षेत्र में तुर्की की सेनाओं का क्या काम है ? क्षेत्र में अगर किसी देश की सेना की उपस्थिति पर आपत्ति की जाये वह वह खुद अमेरिका है, यह सवाल अमेरिका से होना चाहिए कि वह क्षेत्र में क्या कर रहा है ? दुनिया के दूसरे सिरे से आने वालों को यह अधिकार नहीं है कि वह हम से यह सवाल करें। हमारा इस क्षेत्र से भौगोलिक रिश्ता है, सीरिया और इराक से हमारी सीमायें मिलती हैं जब तक इन देशों की धरती से आतंकी गिरोहों द्वारा तुर्की की धरती पर मोर्टार और मिसाइल दाग़े जाते रहेंगे हम इन देशों में उपस्थित रहेंगे ।
............
YJC


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

दक्षिण कोरिया ने आंग सान सू ची से ग्वांगजू पुरस्कार वापस लेने का फैसला किया । सूडान ने इस्राईल के अरमानों पर पानी फेरा, संबंध सामान्य करने से किया इंकार । हज़रत फ़ातिमा मासूमा स.अ. सऊदी अरब का अमेरिका को कड़ा संदेश, हमारे मामले में मुंह बंद रखे सीनेट । इदलिब की आज़ादी प्राथमिकता, अतिक्रमणकारियों को सीरिया से भागना ही होगा : दमिश्क़ हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स की मांग, अमेरिका से राजनैतिक संबद्धता कम करे इंग्लैंड। अवैध राष्ट्र ने लगाई गुहार, लेबनान सेना पर दबाव बनाए अमेरिका । अमेरिकी गठबंधन आतंकी संगठनों की मदद से सीरिया के तेल संपदा को लूटने में व्यस्त । मासूमा ए क़ुम स.अ. की शहादत के शोक में डूबा ईरान, क़ुम समेत देश भर में मातम । अमेरिका ने स्वीकारा, असद को पदमुक्त करना उद्देश्य नहीं । सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़ सऊदी अरब की सैन्य टुकड़ियां हैं आईएसआईएस और नुस्राह फ्रंट ।