Tuesday - 2018 June 19
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190325
Date of publication : 1/11/2017 23:0
Hit : 419

हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनईः

आर्थिक लेनदेन में डॉलर की जगह राष्ट्रीय मुद्रा का चलन, अमेरिकी प्रतिबंधों का सबसे उचित जवाब।

हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई ने अमेरिकों प्रतिबंधों को दोनों देशों के लिए सुनहरा अवसर बताते हुए कहा कि यह प्रतिबंध राष्ट्रीय क्षमताओं के निखारने का बेहतरीन बहाना हैं और अमेरिकी प्रतिबंधों के नकारात्मक प्रभावों को भी उचित रणनीति द्वारा नष्ट किया जा सकता है


विलायत पोर्टलः सुप्रीम लीडर हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई  ने आज बुधवार की शाम को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतीन से मुलाक़ात में रूसी राष्ट्रपति द्वारा हर मैदान में ईरान के साथ सम्ंबध विस्तार के न्यौते का स्वागत करते हुए ताकीद कीः गत वर्षों में आपसी सहयोग के अनुभवों से फायदा उठाते हुए ईरान व रूस को हर विभाग में अपने सम्ंबधों को दिन प्रतिदिन मज़बूत करना चाहिए।
उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच मौजूदा आर्थिक सहयोग से कहीं अधिक आर्थिक सहयोग में विस्तार की गुंजाइश पाई जाती है और  उन्होंने ट्रांस्पोर्ट के मैदान में महत्पूर्ण चाबहार बंदरगाह से सेंट पीटर्सबर्ग बंदरगाह तक के एरिये को आर्थिक सहयोग में बढ़ोत्तरी का मुख्य केंद्र बताते हुए सीरिया में दोनों देशों के आपसी सहयोग के बेहतरीन अनुभव की ओर इशारा करते हुए कहा कि सीरिया में ईरान व रूस के सहयोग ने साबित कर दिया कि दोनों देश मुश्किल समय में भी आपसी सहयोग से साझा लक्ष्यों तक पहुंच सकते हैं। उन्होंने कहा कि ईरान व रूस के मुकाबले में आतंकवादियों का समर्थन करने वाले अमेरिका और उसके घटक देशों की पराजय सबकी आखों के सामने है जिसका इंकार सम्भव नहीं है लेकिन अभी भी अमेरिका और उसके घटक देश षड़यंत्रों में व्यस्त हैं ताकि आईएस की हार की भरपाई कर सकें इसलिए सीरिया संकट के समाधान तक ईरान व रूस के बीच आपसी सहयोग जारी रखना ज़रूरी है।
 हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई  ने अमेरिकों प्रतिबंधों को  दोनों देशों के लिए सुनहरा अवसर बताते हुए कहा कि यह प्रतिबंध राष्ट्रीय क्षमताओं के निखारने का बेहतरीन बहाना हैं और अमेरिकी प्रतिबंधों के नकारात्मक प्रभावों को भी उचित रणनीति द्वारा नष्ट किया जा सकता है जिसमें सबसे बेहतरीन रास्ता डॉलर को ख़त्म करके आर्थिक लेनदेन में राष्ट्रीय मुद्रा को जगह देना हैं।
रूसी राष्ट्रपति ने भी ईरान को अपना दोस्त बताते हुए सम्ंबधों में विस्तार पर ताकीद की और अमेरिका को जमकर बुरा भला कहा। उन्होंने कहा कि रूस ईरान के साथ मिल कर आतंकवाद की नाबूदी तक संघर्ष करता रहेगा।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :