Thursday - 2018 June 21
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190495
Date of publication : 17/11/2017 11:33
Hit : 251

ईरान के विरुद्ध युद्ध छेड़ने का षड्यंत्र रच रहे हैं अवैध राष्ट्र और आले सऊद ?

इस से पहले भी आइज़नकोट ने अमेरिका में सऊदी, मिस्री , संयुक्त अरब अमीरात और जॉर्डन के सैन्यअधिकारियो के साथ वार्ता की थी जिसमे लेबनानी सेनाधिकारी ने आइज़नकोट का विरोध करते हुए बैठक में भाग लेने से मना कर दिया था ।

विलायत पोर्टल :   प्राप्त जानकारी के अनुसार अरब जगत के प्रख्यात समाचार पत्र रायुल यौम के संपादक अब्दुल बारी अतवान के अनुसार इस्राईल संयुक्त सैन्य कमान के अध्यक्ष आइज़नकोट का बयान इस बात का सूचक हैं कि अवैध राष्ट्र इस्राईल और आले सऊद युद्ध का षड्यंत्र रच रहे हैं । आइज़नकोट ने सऊदी अरब और अवैध राष्ट्र के बीच जो सैन्य सूचनाएँ आदान प्रदान की बातें कहीं हैं आम तौर पर यह गतिविधियां युद्ध की अवस्था में होती हैं । क्षेत्र में चल रहे अजीब से घटनाक्रम तथा अवैध राष्ट्र के सैन्याधिकारी के इन बयानों ने कि वह ईरान का मुक़ाबला करने के लिए आले सऊद के साथ गुप्त सैन्य जानकारियों के अदन प्रदान के लिए तैयार हैं क्षेत्र में युद्ध का आशंका को बल दे दिया है । ज़ायोनी राष्ट्र की यह घोषणा इस बात का पर्याप्त सुबूत है कि आले सऊद और अवैध राष्ट्र इस्राईल का गठबंधन दिन प्रतिदिन और मज़बूत होता जा है क्योंकि दुश्मन के विरुद्ध युद्ध की अवस्था में ही ऐसे सैन्य रहस्यों का अदन प्रदान होता है । ईरान के विरुद्ध गठबंधन का फहला फायदा इस्राईल को हैं, क्योंकि ईरान एकलौता ऐसा देश है जो अवैध राष्ट्र के लिए खतरा है और उसकी सैन्य, तथा मिसाइल क्षमता से अवैध राष्ट्र भयभीत है।  याद रहे कि इस से पहले भी आइज़नकोट ने अमेरिका में सऊदी, मिस्री , संयुक्त अरब अमीरात और जॉर्डन के सैन्यअधिकारियो के साथ वार्ता की थी जिसमे लेबनानी सेनाधिकारी ने आइज़नकोट का विरोध करते हुए बैठक में भाग लेने से मना कर दिया था । ज़ायोनी अधिकारी का यह दुस्साहसिक बयाबन इस बात का संकेत है की अगर लेबनान संकट बढ़ता है तो सऊदी - ज़ायोनी गठबंधन के बहाने इस युद्ध की आग कई मुस्लिम देशों को अपनी चपेट में ले लेगी । ...........................
तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :