Thursday - 2018 Oct 18
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190577
Date of publication : 23/11/2017 15:59
Hit : 592

साम्राज्यवादी शक्तियों के विरुद्ध जहाँ भी हमारी आवश्यकता पड़े, सहायता के लिए हैं तैयार : आयतुल्लाह ख़ामेनई

मैं स्पष्ट शब्दों में इस बात का ऐलान करता हूँ कि साम्राज्यवादी शक्तियों के मुक़ाबले जहाँ भी ईरान की ज़रूरत पड़ेगी ईरान भरपूर मदद करेगा और हम इस मुद्दे पर कोई संकोच करेंगे नाहि किसी की कोई परवाह ।


विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार तेहरान में आयोजित “लवर्स ऑफ़ अहलुल बैत अ.स. एंड द तकफ़ीरी इश्यू ” कांफ्रेंस में दुनियाभर से शामिल होने आये विद्वानों से भेंट करते हुए हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई ने आपसी एकता और इत्तेहाद को सबसे बड़ा कर्तव्य बताते हुए कहा कि अल्लाह के फ़ज़्लो करम से साम्राज्यवादी और ज़ायोनी शक्तियों के षड्यंत्र और दुस्साहसों के विरुद्ध इस्लामी ईरान डटा हुआ है तथा आखिर तक डटा रहेगा और उसी प्रकार विजयी रहेगा जैसा हाल ही में सीरिया और इराक से वहाबी आतंकी संगठन दाइश का सफाया करते उसे परास्त किया । आयतुल्लाह ख़ामेनई ने कहा, हालाँकि दाइश का सफाया हो चुका है लेकिन हमे दुश्मन की ओर से सतर्क रहना चाहिए क्योंकि अमेरिका और इस्राईल,अपनी इस्लाम दुश्मनी से बाज़ नहीं आयेंगे, वह दाइश जैसे और भी षड्यंत्र करते रहेंगे । दुशमन की अनदेख नहीं की जा सकती हमे आपसी भाईचारे और एकजुट होकर रहना होगा और इश्क़े अहले बैत अलैहिमुस्सलाम मुसलमानो के आपसी इत्तेहाद और भाईचारे का सबसे बेहतरीन साधन है । उन्होंने कहा कि अमेरिका और उसके घटक देशों की और से 40 साल तक प्रतिबंध झेलने के बाद भी ईरान ने चहुंमुखी विकास किया है तथा हम पूरी ताक़त और क्षमता के साथ साम्राज्यवादी शक्तियों के मुक़ाबले में जमे हुए हैं, और मैं स्पष्ट शब्दों में इस बात का ऐलान करता हूँ कि साम्राज्यवादी शक्तियों के मुक़ाबले जहाँ भी ईरान की ज़रूरत पड़ेगी ईरान भरपूर मदद करेगा और हम इस मुद्दे पर कोई संकोच करेंगे नाहि किसी की कोई परवाह । सुप्रीम लीडर ने फिलिस्तीन संकट को इस्लामी जगत का प्रमुख और प्रथम मुद्दा बताते हुए कहा कि इस्लाम दुश्मन शक्तियों पर प्रभाव जमाने का पहला रास्ता फिलिस्तीन है, क्योंकि दुश्मनों ने इस इस्लामी देश पर क़ब्ज़ा जमाकर इसे क्षेत्रीय देशों में उथल पुथल मचाने का अड्ड़ा बना कर रख दिया है, हमें इस्राईल रुपी कैंसर का मुक़ाबला करना होगा । उन्होंने उम्मीद जताई कि एक दिन आएगा जब फिलिस्तीनी जनता अपने देश की मालिक होगी और वह दिन इस्लामी जगत में ईद का दिन होगा ।
................................
अलआलम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :