Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190598
Date of publication : 25/11/2017 17:4
Hit : 219

दाइश की पराजय अमेरिका और इस्राईल की हार : अमेरिकी विश्लेषक

दाइश की पराजय में शिया सुन्नी एकता बल्कि रूसी ईसाईयों की एकता ने बहुत महत्वपूर्ण किरदार निभाया है । उन्होंने कहा कि इस गठजोड़ के नतीजे बहुत उत्साहजनक रहें हैं जिसे दुनिया भर में ज़ायोनी षड्यंत्रों को नाकाम बनाने में सहयोग मिलेगा ।


विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार अमेरिका के वरिष्ठ विश्लेषक मार्क गैलन ने कहा है कि ईरान की प्रभावशाली भूमिका न होती तो दाइश का परास्त करना असंभव होता, दाइश की पराजय सिर्फ इस वहाबी आतंकी संगठन की हार नहीं है बल्कि यह अमेरिका और इस्राईल दोनों की हार है । इस अमेरिकी स्तंभकार ने कहा कि अगर ईरान की भूमिका न होती तो दाइश को परास्त करना आसान नहीं था । दाइश की पराजय में शिया सुन्नी एकता बल्कि रूसी ईसाईयों की एकता ने बहुत महत्वपूर्ण किरदार निभाया है । उन्होंने कहा कि इस गठजोड़ के नतीजे बहुत उत्साहजनक रहें हैं जिसे दुनिया भर में ज़ायोनी षड्यंत्रों को नाकाम बनाने में सहयोग मिलेगा । उन्होंने कहा कि दाइश की पराजय ईरान के लिए रणनीतिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि अवैध राष्ट्र इस्राईल सदैव ही ईरान पर आतंकवाद समर्थक होने के आरोप लगाता रहा है लेकिन ईरान ने एक बार फिर सीरिया में आतंकवाद को परास्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
.............
तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका ।