Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190629
Date of publication : 28/11/2017 16:4
Hit : 392

ज़ायोनी एजेंट सऊदी अरब की नौकरी छोड़े ट्यूनेशिया, प्रतिरोध का भविष्य है उज्जवल : मुबारका अलब्राहमी

यमन प्रतिरोध की ओर से सऊदी के सुनसान क्षेत्र में एक मिसाइल गिरी तो सब सम्मलेन के लिए दौड़ते हुए गए लेकिन यमन वासियों के क़त्ले आम और लाखों लोगों की बेघरी पर चुप्पी साधे बैठे हुए हो ? तुम्हे टुकड़ों में बंटे यमन के बच्चों की लाशे देख कर शर्म नहीं आती ? तुम्हे और अरब लीग को अवैध राष्ट्र इस्राईल के मुक़ाबले में डटा प्रतिरोधी आंदोलन हिज़्बुल्लाह आतंकी संगठन नज़र आता है लेकिन लाखों मुसलमानों और अरबों के खून में नहाये दाइश , तालेबान , नुस्राह फ्रंट , फ्री सीरियन आर्मी , तहरीरुश्शाम नज़र नहीं आते ? कभी इनके बारे में तो एक शब्द नहीं बोला ?

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार ट्यूनेशिया पार्लियामेंट के वरिष्ठ सांसद मुबारका अलब्राहमी ने पार्लियामेंट में अपने धुंआधार भाषण में सत्तारूढ़ दल को निशाना बनाते हुए विदेश मंत्री को सम्बोधित करते हुए कहा कि खेद की बात है कि हमारे देश की विदेश नीतियां आले सऊद और उनका विदेश मंत्री आदिल अलजुबैर निर्धारित करता है, और हमारा विदेश मंत्री या तो उसकी जी हुज़ूरी करता है या उसकी पीठ के पीछे छुप जाता है, मेरा देश ऐसे रवैये के तो लायक नहीं है ? उन्होंने ट्यूनेशिया यात्रा पर हिज़्बुल्लाह के विरुद्ध सऊदी मंत्री के ज़हरीले भाषण का उल्लेख करते हुए विदेश मंत्री को निशाने पर लेते हुए कहा कि हमारी धरती पर सऊदी विदेश मंत्री हिज़्बुल्लाह को आतंकी संगठन बोलता है, जो देश की सम्प्रभुता का खुला उल्लंघन है लेकिन हमारे विदेश मंत्री महोदय सिर्फ गर्दन हिलाकर रह जाते हैं । हमारे देश का नागरिक मोहम्मद अल ज़वावी अपने घर के सामने मोसाद के हत्यारों का निशाना बनकर शहीद हो जाता है यह देश की सम्प्रभुता का भी उल्लंघन है लेकिन न आप, न देश का राष्ट्रपति, कोई भी एक शब्द नहीं बोलता ऐसा क्यों ? उन्होंने अरब लीग के हालिया सम्मलेन पर भी कटाक्ष करते हुए कहा कि यमन प्रतिरोध की ओर से सऊदी के सुनसान क्षेत्र में एक मिसाइल गिरी तो सब सम्मलेन के लिए दौड़ते हुए गए लेकिन यमन वासियों के क़त्ले आम और लाखों लोगों की बेघरी पर चुप्पी साधे बैठे हुए हो ? तुम्हे टुकड़ों में बंटे यमन के बच्चों की लाशे देख कर शर्म नहीं आती ? तुम्हे और अरब लीग को अवैध राष्ट्र इस्राईल के मुक़ाबले में डटा प्रतिरोधी आंदोलन हिज़्बुल्लाह आतंकी संगठन नज़र आता है लेकिन लाखों मुसलमानों और अरबों के खून में नहाये दाइश , तालेबान , नुस्राह फ्रंट , फ्री सीरियन आर्मी , तहरीरुश्शाम नज़र नहीं आते ? कभी इनके बारे में तो एक शब्द नहीं बोला ? इस वरिष्ठ सांसद ने ट्यूनेशिया सरकार की आले सऊद की ग़ुलामी करने पर कड़ी निंदा करते हुए कहा कि इस्लामी गठबंधन के नाम पर जो ज़ायोनी - अमेरिकी गठबंधन बना है ट्यूनेशिया उसका भाग कभी नहीं बनेगा हमने अरब -इस्राईल युद्ध में शहीद दिए हैं, हम किसी ज़ायोनी गठबंधन का भाग नहीं बनेंगे । उन्होंने अरब लीग द्वारा हिज़्बुल्लाह को आतंकी बताये जाने की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि हिज़्बुल्लाह के विरुद्ध किसी भी निर्णय का सीधा लाभ अवैध ज़ायोनी राष्ट्र को होगा जिस ने प्रतिरोध के मुक़ाबले सदैव ही पराजय का सामना किया है और ज़िल्लत उठायी है । ब्राहिमी ने विदेश मंत्री को सम्बोधित करते हुए कहा कि मंत्री जी अपने आप को न थकाओ , जो काम अवैध राष्ट्र न कर सका और जो काम दाइश से न हो सका वह काम अरब लीग के बस की बात नहीं है । मंत्री जी मुझे उम्मीद है कि आप पतन की ओर बढ़ रही सरकारों की नौकरी छोड़ देंगे ,और वास्तव में वह अवैध राष्ट्र इस्राईल के ही नौकर हैं । ट्यूनेशिया , यहाँ की जनता, अरब समुदाय और समस्त मानवता का हित अवैध राष्ट्र और अत्याचार के विरुद्ध प्रतिरोध में ही है । हम अत्याचार पीड़ित लोग हैं हमारा उत्थान प्रतिरोध में है और यह बात जान लो कि प्रतिरोध की क़ीमत अत्याचारी तथा अतिक्रमणकारी लोगों की नौकरी से कम ही होती है ।
....................
अलआलम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची