Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190652
Date of publication : 29/11/2017 19:1
Hit : 537

ईरान न होता तो बग़दाद पर लहरा रहा होता दाइश का झंडा : हादी अल आमेरी

ईरान हमारे साथ एक सैन्य सलाहकार की तरह जुड़ा रहा जिस का नतीजा है कि हम आज एक संगठित और सुसज्जित संगठन की तरह है तथा रण जीतने की हर तकनीक को जानते हैं ।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार इराक स्वंसेवी बल हश्दुश शअबी के वरिष्ठ कमांडर तथा बद्र मूवमेंट के प्रमुख हादी अल आमेरी का कहना है कि अगर ईरान न होता तो आज बग़दाद पर वहाबी आतंकी संगठन दाइश क झंडा लहरा रहा होता । ईरान हमारे साथ एक सैन्य सलाहकार की तरह जुड़ा रहा जिस का नतीजा है कि हम आज एक संगठित और सुसज्जित संगठन की तरह है तथा रण जीतने की हर तकनीक को जानते हैं । उन्होंने हश्दुश शअबी के अधीन संगठनों को अमेरिका की ओर से आतंकी संगठनों की लिस्ट में डाले जाने को कोई महत्त्व न देते हुए कहा कि हम इराक की रक्षा और सम्मान के लिए लड़ते रहे हैं, यह निर्णय इराक की ज़मीनी सच्चाई की अनदेखी कर अवैध राष्ट्र इस्राईल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए लिया गया है, हम अपने देश की रक्षा के लिए युद्ध कर रहे हैं और अपने सर्वोच्च कमांडर की अनुमति के बिना देश की सीमा से बाहर किसी युद्ध में भाग नहीं ले रहे हैं । उन्होंने इराक में अमेरिकी सैनिकों की मौजूदगी पर सवाल उठाते हुए कहा कि अमेरिकी सैनिकों तथा सलाहकारों को इराक की धरती से निकलना ही होगा ।
.........................
तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची