नवीनतम लेख

जमाल ख़ाशुक़जी हत्याकांड पर दबाव बढ़ा तो ट्रम्प के लिए संकट खड़ा कर सकता है बिन सलमान ! ज़ायरीन को निशाना बनाने के लिए महिलाओं की वेशभूषा में आए संदिग्ध गिरफ्तार ट्रम्प की ईरान विरोधी नीतियों ने सऊदी अरब को दुस्साहस दिया, सऊदी राजदूतों को देश निकाला दिया जाए । कर्बला से ज़ुल्म के ख़िलाफ़ डट कर मुक़ाबले की सीख मिलती है... अफ़ग़ान युद्ध की दलदल से निकलने के लिए हाथ पैर मार रहा है अमेरिका : वीकली स्टैंडर्ड ईरान में घुसपैठ करने की हसरत पर फिर पानी, आईएसआईएस पर सेना का कड़ा प्रहार ईरान से तेल आयात जारी रखेगा श्रीलंका, भारत की सहायता से अमेरिकी प्रतिबंधों से छूट पाने में जुटा ड्रामा बंद करे आले सऊद, ट्रम्प और जॉर्ड किश्नर को खरीदा होगा अमेरिका को नहीं : टेड लियू ज़ायोनी सैनिकों ने किया क़ुद्स के गवर्नर का अपहरण ट्रम्प ने दी बिन सलमान को क्लीन चिट, हथियार डील नहीं होगी रद्द रूस के कड़े तेवर, एकध्रुवीय दुनिया का सपना देखना छोड़ दे अमेरिका आले सऊद ने अमेरिका के आदेश पर ख़ाशुक़जी के क़त्ल की बात स्वीकारी : मुजतहिद एक पत्रकार की हत्या पर आसमान सर पर उठाने वाला पश्चिमी जगत और अमेरिका यमन पर चुप क्यों ? जमाल ख़ाशुक़जी हत्याकांड में ट्रम्प के दामाद की भूमिका की जांच हो साम्राज्यवाद के मुक़ाबले पर डटा ईरान और ग़ुलामी करते मुस्लिम देशों में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ : फहवी हुसैन
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190668
Date of publication : 30/11/2017 17:56
Hit : 666

इमाम ख़ुमैनी र.ह. ने मुझे बार्डर पर जाने का हुक्म दिया

उनके पास जाने की वजह यह थी कि पहली बात तो यह कि मैं उनको सारे हालात बता सकूं, दूसरे यह कि बार्डर पर जाने की अनुमति ले लूं, उन्होंने अनुमति के बजाए मुझे हुक्म दिया कि जाओ, मुझे इतने अच्छे और साफ़ शब्दों में हुक्म देने की उम्मीद नहीं थी, उस बैठक में शहीद चमरान भी थे, वह शायद बार्डर जाने की बात के लिए नहीं आए थे लेकिन जब देखा मैं बार्डर पर जाने की अनुमति के लिए आया हूं तब उन्होंने भी इमाम ख़ुमैनी र.ह. से कहा कि मैं भी जाना चाहता हूं, उन्होंने कहा ठीक है तुम भी जाओ।


विलायत पोर्टल :  मैं इमाम ख़ुमैनी र.ह. के पास दक्षिणी बार्डर पर लड़ रहे जवानों का उत्साह बढ़ाने के लिए उनके पास जाने की अनुमति मांगने गया, ताकि सिपाहियों के हौसले बुलंद रहे, उनके पास जाने की वजह यह थी कि पहली बात तो यह कि मैं उनको सारे हालात बता सकूं, दूसरे यह कि बार्डर पर जाने की अनुमति ले लूं, उन्होंने अनुमति के बजाए मुझे हुक्म दिया कि जाओ, मुझे इतने अच्छे और साफ़ शब्दों में हुक्म देने की उम्मीद नहीं थी, उस बैठक में शहीद चमरान भी थे, वह शायद बार्डर जाने की बात के लिए नहीं आए थे लेकिन जब देखा मैं बार्डर पर जाने की अनुमति के लिए आया हूं तब उन्होंने भी इमाम ख़ुमैनी र.ह. से कहा कि मैं भी जाना चाहता हूं, उन्होंने कहा ठीक है तुम भी जाओ। हम दोनों ख़ुश हो कर उसी समय इमाम ख़ुमैनी र.ह. के घर से बाहर आ गए, ज़ोहर का समय हो चुका था, हम दोनों ने तय किया कि उसी दिन ज़ोहर के बाद अहवाज़ शहर की ओर जाएंगे, हालांकि मैं जल्दी जाने के लिए उत्सुक था, लेकिन शहीद चमरान ने कहा कि उन्हें कुछ काम है 2-3 घंटे लगेंगे, क्योंकि वह अपने साथ कुछ दोस्तों और जान पहचान के लोगों को भी लाना चाह रहे थे, और जाने कि लिए सामान वग़ैरह भी तैय्यार करना था, इसलिए उन्होंने ज़ोहर के बाद चलने को कहा, मैंने भी उनके काम को देखते हुए ज़ोहर बाद जाने का क़बूल कर लिया, मेरे ख़्याल से दोपहर के 3-4 बज रहे थे जब हम मेहराबाद एयरपोर्ट से शहीद चमरान और उनके दोस्तों के साथ अहवाज़ शहर के लिए निकले, मैं अहवाज़ वापस होने के लिए नहीं जा रहा था, और सोंच भी रहा था कि वापस तेहरान नहीं आ पाऊंगा, मैंने अपने सुरक्षा गार्डों से भी कह दिया था कि अब तुम लोग आज़ाद हो मैं वापस होने के लिए नहीं जा रहा हूं, वह सभी भावुक हो गए और कहने लगे कि हम सब भी बार्डर चलने को तैय्यार हैं, वहां हम लोग सब कुछ भूल कर केवल जंग पर ध्यान देंगे, मैंने कहा कि अगर ऐसा है तो ठीक है अगर वहां मेरी सुरक्षा भूल कर केवल देश की सुरक्षा पर ध्यान दोगे तो चल सकते हो, वह सब भी ख़ुशी से चलने को तैय्यार हो गए, क्योंकि मैं भी बार्डर पर जंग के लिए जा रहा था इसलिए मुझे अब सुरक्षा गार्डों की ज़रूरत नहीं थी।
(12 अक्टूबर 1981 में T.V. इंटरव्यू में आपका बयान)
.....................................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :