Saturday - 2018 Sep 22
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190888
Date of publication : 13/12/2017 18:51
Hit : 231

फिलिस्तीन की आज़ादी का एकमात्र उपाय है सशस्त्र संघर्ष : हिज़्बुल्लाह

शैख़ क़ासिम ने कहा कि अमेरिका फिलिस्तीन संकट पर कभी भी सच्चाई का साथी नहीं था उसने फिलिस्तीन को ग़ज़्ज़ा और पश्चिमी तट की हद तक ही मान्यता दी है ।


विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रतिरोधी आंदोलन हिज़्बुल्लाह के उप प्रमुख शैख़ नईम क़ासिम ने कहा कि फिलिस्तीन को 1948 या 1967 की परिस्थितियों पर विभाजित करने के प्रस्तावों का कोई महत्त्व नहीं है फिलिस्तीन की आज़ादी और उसे वापस पाने का एकमात्र उपाय अवैध राष्ट्र के विरुद्ध सशस्त्र संघर्ष है । शैख़ क़ासिम ने कहा कि अमेरिका फिलिस्तीन संकट पर कभी भी सच्चाई का साथी नहीं था उसने फिलिस्तीन को ग़ज़्ज़ा और पश्चिमी तट की हद तक ही मान्यता दी है । वह फिलिस्तीन के अस्तिव को सिर्फ कुछ जंगल और खेत की हद तक मानते हैं उन्हने सदैव ही अवैध राष्ट्र के अस्तिव को स्वीकारा है, अमेरिका का मत है कि अवैध राष्ट्र जो भी मांगे उसे दे दिया जाये और फिलिस्तीनी जनता अपने मौलिक अधिकारों को भी छोड़ दें ।
..............
 इरना


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :