Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191550
Date of publication : 15/1/2018 17:0
Hit : 179

इस्लामी देशों की अर्थ व्यवस्था से डॉलर को हटाने में ही भलाई ।

हमें अपनी अर्थव्यवस्था से डॉलर को हटाना होगा बल्कि हमें अपने हितों का ध्यान रखना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि हमारे मामलों में अमेरिका जैसे अन्य किसी देश को कोई लाभ न होने पाए ।


विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार ऑर्गनाइज़ेशन ऑफ़ इस्लामिक कॉर्पोरेशन असेंबली की आमसभा में किर्गिज़स्तान पार्लियामेंट के दूत ने इस प्रभावशाली सम्मलेन के आयोजन पर ईरान का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि इस्लामी देशों में व्यापर समबन्धों को बढ़ावा देना बहुत ज़रूरी है और किर्गिज़स्तान इस्लामी देशों से व्यापर बढ़ाने की नीति पर काम कर रहा है । उन्होने इस्लामी देशों के आपसी व्यापर की मुद्रा के रूप में डॉलर का बायकॉट करने के बारे में पूछे गए सवाल पर कहा कि इस्लामी देशों की आर्थिक व्यवस्था से डॉलर को को ड्राप करने से बहुत सहायता मिलेगी हमें इस्लामी देशों के हितों के लिए डॉलर के स्थान पर किसी अन्य मुद्रा का चयन करना होगा । उन्होंने कहा कि यही नहीं कि हमें अपनी अर्थव्यवस्था से डॉलर को हटाना होगा बल्कि हमें अपने हितों का ध्यान रखना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि हमारे मामलों में अमेरिका जैसे अन्य किसी देश को कोई लाभ न होने पाए ।
.......................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका ।