Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191684
Date of publication : 23/1/2018 15:38
Hit : 438

मेरा दोस्त शर्मिंदा हो गया...

यह बात सन् 1950 और 1951 की है उस समय मैं 11 या 12 साल का था, रज़ा ख़ान ने इस तरह से उलमा की तौहीन और उनका अपमान करना आम कर रखा था कि उसके ईरान से भाग जाने के बाद भी 10 साल तक यह सिलसिला चलता रहा, यहां तक कि इस्लामी क्रांति से थोड़ा पहले तक गली मोहल्ले में उलमा का अपमान इसी तरह जारी था।


विलायत पोर्टल :  रज़ा ख़ान के कामों में से एक यह था (यह काम भी बाक़ी कामों की तरह ब्रिटेन के इशारों पर था, क्योंकि उस की ख़ुद की अक़्ल और सोंच ऐसे कामों तक पहुंच ही नहीं सकती थी) कि, उलमा को बदनाम किया जाए, उसने न केवल उलमा को अम्मामा उतारने पर मजबूर किया बल्कि इतना ज़्यादा उन्हें बदनाम कर दिया कि गली मोहल्ले के बच्चे उन्हें देख कर मज़ाक़ उड़ाते थे, और यह काम हर जगह तेज़ी से फैल रहा था, यह बात सन् 1950 और 1951 की है उस समय मैं 11 या 12 साल का था, रज़ा ख़ान ने इस तरह से उलमा की तौहीन और उनका अपमान करना आम कर रखा था कि उसके ईरान से भाग जाने के बाद भी 10 साल तक यह सिलसिला चलता रहा, यहां तक कि इस्लामी क्रांति से थोड़ा पहले तक गली मोहल्ले में उलमा का अपमान इसी तरह जारी था। हम मशहद में क्लास, जलसे और अहम मीटिंग कर रहे थे, हमारे क्लास और जलसों में न जाने कितने स्टूडेंट, डॉक्टर और प्रोफ़ेसर आते थे, मैं उनके लिए क़ुर्आन की तफ़सीर बयान करता था, एक दिन मैं अपने एक क़ाबिल दोस्त के साथ मशहद से तेहरान आने के लिए निकला, हम दोनों स्टेशन पर ट्रेन के चलने के समय की प्रतीक्षा कर रहे थे, तभी अचानक कुछ जवान लड़के यूरोप स्टाइल के कपड़े जींस वग़ैरह पहने हुए (जो पहनावा उस समय तक ईरान में आम हो चुका था) आये और इस तरह मेरा मज़ाक़ उड़ाया कि मेरा दोस्त शर्मिंदा हो गया, इस तरह मज़ाक़ उड़ाना पूरे ईरान में आम हो चुका था और यह किसी गुट या संगठन से विशेष नहीं था बल्कि हमारे जवानों की मानसिकता को बिगाड़ा गया था उनको गुमराह कर दिया गया था। (4 नवंबर 1990 में विशेष अदालत कर्मियों के बीच आपका बयान)
....................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई