Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191718
Date of publication : 24/1/2018 19:49
Hit : 444

ईरान को दहलाने का सऊदी षड्यंत्र नाकाम , विस्फोटकों से भरे दो भंडार नष्ट किये ।

इस यूनिट ने पूर्वी सीमा से देश में भेजी गयी 23 बमों की एक खेप पकड़ी जिसे सऊदी अरब की ख़ुफ़िया एजेंसी ने देश में अशांति फ़ैलाने के लिए तैयार किया था यह बम रिमोट सिस्टम से ब्लास्ट होना थे ।

विलायत पोर्टल :  इस्लामी इंक़ेलाब के शत्रु, इस्लामी राष्ट्र ईरान के विरुद्ध आये दिन षड्यंत्र करते रहे हैं ताज़ा घटनाक्रम केअनुसार एक बार फिर ईरान के सैन्यबलों ने देश को दहलाने के एक भीषण षड्यंत्र को नाकाम बनाते हुए दुश्मन के इरादों पर पानी फेर दिया है । प्राप्त जानकारी के अनुसार ईरान के इंटेलिजेंस विभाग ने खबर दी है कि " इमाम ज़माना के गुमनाम सिपाही" यूनिट ने देश में अशांति फ़ैलाने के लिए लाये गए विस्फोटकों से भरे दो भंडारों को पहचान कर उन्हें नष्ट कर दिया है दुश्मन देश सार्वजानिक स्थलों पर विस्फोट कर देश में अशांति और अराजकता फैलाना चाहता था । पहले चरण में इस यूनिट ने पूर्वी सीमा से देश में भेजी गयी 23 बमों की एक खेप पकड़ी जिसे सऊदी अरब की ख़ुफ़िया एजेंसी ने देश में अशांति फ़ैलाने के लिए तैयार किया था यह बम रिमोट सिस्टम से ब्लास्ट होना थे । अपने अभियान के दूसरे चरण में इस यूनिट के जवानों ने कुर्दिस्तान के रास्ते देश में घुसपैठ कर आई एक आतंकी टीम पर कड़ा प्रहार करते हुए उनके क़ब्ज़े से भारी संख्या में विस्फोटक सामग्री, तैयार बम , विस्फोटक बेल्ट , हैंड ग्रेनेड, 31 शटर क्लाशिनकोफ समेत RPG और अन्य हथियार भी ज़ब्त किये ।
....................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी....